Like Us on Facebook

Adsense Link

Thursday, 20 September 2012

Har Shaksh Mera saath nibha nahi sakta- Best Urdu Ghazal by Waseem Barelavi in Hindi Font

क्या दुःख है, समंदर को बता भी नहीं सकता
आँसू की तरह आँख तक आ भी नहीं सकता

तू छोड़ रहा है, तो ख़ता इसमें तेरी क्या
हर शख्स मेरा साथ, निभा भी नहीं सकता



प्यासे रहे जाते हैं जमाने के सवालात
किसके लिए जिन्दा हूँ, बता भी नहीं सकता

घर ढूंढ रहे हैं मेरा , रातों के पुजारी
मैं हूँ कि चरागों को बुझा भी नहीं सकता

वैसे तो एक आँसू ही बहा के मुझे ले जाए
ऐसे कोई तूफ़ान हिला भी नहीं सकता,.,!!




Kya dukh hai samandar ko bata bhi nahi sakta
Aansoo ki tarah aankh tak aa bhi nahi sakta

Tu chhod rha hai to khata ismen teri kya
Har shaksh mera saath nibha bhi nahi sakta

Pyase rah jate hain jamane ke sawalat
Kiske liye jinda hu bata bhi nahi sakta

Ghar dhund rahe hain mera raton ke pujari
Mai hu ke chiragon ko bujha bhi nahi sakta

Vaise to ek aansoo baha kar mujhe le jaaye
Aise koi toofan hila bhi nahi sakta,.,!!

No comments:

Post a Comment