Like Us on Facebook

Adsense Link

Friday, 21 September 2012

Best Urdu Sher, 2 Liners, Shayri, Kavita, Ghazal in Hindi Font

मेरे मज़हब में दीदार-ए-यार जायज़ ना था .,.,
पर उसने नकाब में रह कर मुझे काफ़िर बना दिया.,.,!!!
 

Mere Mazhab me deedar-e-yaar jayaj na tha
Par usne naqab me rah kar mujhe qafir bana diya
------------------------------------------------------


मत पूछ क्या हाल है मेरा तेरे आगे .,.,!!!
तू देख क्या रंग है तेरा मेरे आगे.,.,!!!


Mat poochh kya hal hai mera tere aage
Tu dekh kya rang hai tera mere aage

-------------------------------------------------------

अपने चेहरे से जो ज़ाहिर है छुपायें कैसे
तेरी मर्ज़ी के मुताबिक नज़र आयें कैसे


Apne chehare se jo jahir hai chhupayen kaise
Teri marji ke mutabik najar aaye kaise

घर सजाने का तस्सवुर तो बहुत बाद का है
पहले ये तय हो कि इस घर को बचायें कैसे .,.,!!!






Ghar sajane ka tassavur to bahut baad ka hai
Pahle ye tay ho ki is ghar ko bachayen kaise

------------------------------------------------------

इन्तेज़मात नये सिरे से सम्भाले जायें|
जितने कमज़र्फ़ हैं महफ़िल से निकाले जायें,.

मेरा घर आग की लपटों में छुपा है लेकिन,
जब मज़ा है तेरे आँगन में उजाले जायें.,.,.,!!!!
 
 


Intejamaat naye sire se sambhale jaaye
Jitne kamzarf hai mehfil se nikale jaaye

Mera ghar aag ki lapton me chhupa hai lekin
Jab maja hai tere aangan me ujaale jaaye

--------------------------------------------------------------------------


अब मै समझा तेरे , रुकसार पे तिल का मतलब .,,.
दौलत -ए-हुस्न पे दरबान बिठा रक्खा है .,.,.!!!!





Ab main samjha tere rukhsar pe til ka matlab
Daulat-e-husn pe darbaan bitha rakha hai

------------------------------------------------------

हमें करते हो मजबूर शरारतों के लिए, खुद ही हमारी शरारतों को बुरा बताते हो .,.,!!
अगर इतना ही डरते हो तुम आग से, तो बताओ तुम आग क्यों भड़काते हो.,.,.,!!!!!
  


Hame karte ho majboor shararaton ke liye, khud hi hamari shararaton ko bura batate ho
Agar itna hi darte ho tum aag se, to batao tum aag kyo bhadkate ho


------------------------------------------------------

क़हक़हों में गुज़र रही है हयात,
अब किसी दिन उदास भी कर दे,.,!!

फिर न कहना के ख़ुदकुशी है गुनाह,
आज फ़ुर्सत है फ़ैसला कर दे,.,!!!


Kahkahon me gujar rahi hai hayat
Ab kisi din udas bhi karde

Fir na kahna ke khudkushi gunah hai
Aaj fursat hai faisla kar de

--------------------------------------------------------


जो बसेरा है अपनी रातों का ,
सब उसे आसमान कहते हैं !
छत पे बारिश ने रात काटी है ,
गीले-गीले निशान कहते हैं.,.,.,!!!


Jo basera hai apni raton ka
Sab use aasman kahte hain

Chhat pe barish ne raat kaati hai
Geele Geele Nishan kahte hain
----------------------------------------------------------

दिल कि दबिश के सामने औकत क्या तेरी ,
रफ़्तार- ए-वक़्त थम, के ग़ज़ल कह रहा हूं मैं ..."!!!!
 
 


Dil ki dabish ke samne aukat kya teri
Raftaar-e-waqt tham, ke ghazal kah raha hu main




No comments:

Post a Comment