Like Us on Facebook

Adsense Link

Friday, 21 September 2012

Ham Bhi Pyase hai ye ehsaas to ho saki ko- Best Ghazal Rahat Indauri


इन्तेज़मात नये सिरे से सम्भाले जायें
जितने कमज़र्फ़ हैं महफ़िल से निकाले जायें,.,

मेरा घर आग की लपटों में छुपा है लेकिन,
जब मज़ा है तेरे आँगन में उजाले जायें,.,

ग़म सलामत है तो पीते ही रहेंगे लेकिन,
पहले मैख़ाने की हालत सम्भाले जायें,.,







ख़ाली वक़्तों में कहीं बैठ के रोलें यारो,
फ़ुर्सतें हैं तो समन्दर ही खगांले जायें,.,

ख़ाक में यूँ न मिला ज़ब्त की तौहीन न कर,
ये वो आँसू हैं जो दुनिया को बहा ले जायें,.,



हम भी प्यासे हैं ये एहसास तो हो साक़ी को,
ख़ाली शीशे ही हवाओं में उछाले जायें,.,

आओ शहर में नये दोस्त बनायें "राहत"
आस्तीनों में चलो साँप ही पाले जायें,.,!!!

----------------------------------------------------------------------------

Intejamat naye sire se sambhale jayen
Jitne kamzarf hain mafil se nikale jayen

Mera ghar aag ki lapton me chhupa hai lekin
Jab maja hai tere aangan me ujale jaayen

Gham salamat hai to peete hi rahe ge lekin
Pahle maikhane ki halat sambhale jaaye

Khali waqt me kahin baith ke ro len yaron
Fursat hai to samandar hi khangale jaayen

Khak me yun na mil, zabt ki tauheen na kar
Ye wo aansoo hain jo duniya ko baha le jaayen

Ham bhi pyaase hain ye ehsaas to ho saaki ko
Khali sheeshe hi hawaon me Uchhale jaayen

Aao shehar me naye dost banaye 'Rahat'
Aasteeno me chalo saanp hi pale jaayen

No comments:

Post a Comment