Like Us on Facebook

Adsense Link

Thursday, 4 October 2012

Angoor ki Beti se mohabbat kar le - Best Urdu Ghazal

आज अंगूर की बेटी से मोहब्बत कर ले
शेख साहब की नसीहत से बगावत कर ले


इसकी बेटी ने उठा रखी है सर पर दुनिया
ये तो अच्छा हुआ अंगूर को बेटा न हुआ


कम से कम सूरत ए शाकी का नज़ारा कर ले
आके मैखाने में जीने का सहारा कर ले











आँख मिलते ही जवानी का मज़ा आएगा
तुझको अंगूर के पानी का मज़ा आएगा


हर नज़र अपनी बकद शौक गुलाबी कर दे
इतनी पी ले की ज़माने को शराबी कर दे


जाम जब सामने आये तो मुकरना कैसा
बात जब पीने की आ जाए तो डरना कैसा


धूम मची है मैखाने तू भी मचा ले धूम धूम धूम
झूम बराबर झूम शराबी.,.,!!!



*******************************************************************



Aaj angoor ki beti se mohabbat kar le
Shekh sahab ki naseehat se bagavat kar le

Iski beti ne utha rakhi hai sar par duniya
Ye to achha hua angoor ko beta na hua

Kam se kam soorat-e-saaki ka najara kar le
Aake maikhane me jeene ka sahara kar le

Aankh milte hi jawani ka maja aaye ga
Tujhko angoor ke paani ka maja aaye ga

Har najar apni bakad shauk gulabi kar de
Itna pee le ki jamane ko sharabi kar de

Jaam jab samne aaye to mukarna kaisa 
Baat jab peene ki aa jaye to darna kaisa

Dhoom machi hai maikhane me, tu bhi macha le dhoom dhoom dhoom
Jhoom barabar jhoom sharabi

Sponsored Link/ Advertisement below this

No comments:

Post a Comment