Like Us on Facebook

Adsense Link

Thursday, 4 October 2012

Ghalib ke mashhoor Sher , Best sher of Mirza Ghalib in Hindi font (2 Liners)

हैं और भी दुनिया में सुख़नवर बहुत अच्छे।
कहते हैं कि ग़ालिब का है अंदाज़े-बयां और.,.,!!!

Hain aur bhi duniya me sukhanwar bahot achhe
Kahte hain ki Ghalib ka hai andaz-e-bayan aur

------------------------------------------------

 क़र्ज की पीते थे मैं और समझते थे कि हाँ।
  रंग लायेगी हमारी फ़ाक़ामस्ती एक दिन.,.,!!!

Karz ki peete the ham aur samjhate the ki han
Rang laaye gu hamari fakamasti ek din




--------------------------------------------------

पूछते हैं वो कि ‘ग़ालिब’ कौन है,
      कोई बतलाओ कि हम बतलाएं क्या.,.,!!!

Poochhate hain wo ki 'Ghalib' kaun hai
Koi batlao ki ham batlayen kya

----------------------------------------------------

 सनम सुनते हैं तेरी भी कमर है,
        कहां है ? किस तरफ़ है ? औ’ किधर है ?



Sanam sunte hain teri bhi kamar hai
Kahan hai ? kis taraf hai ? aur kidhar hai ?

------------------------------------------------------

 सितारे जो समझते हैं ग़लतफ़हमी है ये उनकी।
        फ़लक पर आह पहुंची है मेरी चिनगारियां होकर.,.,!!!

Sitare jo samjhate hai galafahmi hai ye unki
Falak par aah pahuchi hai meri chingariyan hokar

No comments:

Post a Comment