Like Us on Facebook

Adsense Link

Thursday, 4 October 2012

Mehfil Mehfil Muskana to padta hai - Best Kavita (Ghazal) of Kumar Vishwas




महफ़िल महफ़िल मुस्काना तो पड़ता है.,.,
दिल ही दिल में खुद को, समझाना तो पड़ता है.,.,!!

उनकी आँखों से होकर दिल तक जाना.,.,
रस्ते में ये मैखाना तो पड़ता है.,.,!!!!!

तुमको पाने की चाहत में ख़तम हुए,.,
इश्क में इतना जुरमाना तो पड़ता हैं,.,!!!



------------------------------------------------------------------------------

Mehfil Mehfil muskana to padta hai
Dil hi dil me khod ko, Samjhana to padta hai

Unki aankhon se hokar dil tak jaana
Raste me ye maikhana to padta hai

Tumko paane ki chahat me khatam huye
Ishq ke itna jurmana to padta hai

No comments:

Post a Comment