Like Us on Facebook

Adsense Link

Saturday, 1 December 2012

Apne hatho ki lakiron me basa le mujhko- Urdu Ghazal by Kateel

अपने हाथों की लकीरों में बसा ले मुझको
मैं हूँ तेरा तो नसीब अपना बना ले मुझको,.,

मुझसे तू पूछने आया है वफ़ा के माने
ये तेरी सादा-दिली मार ना डाले मुझको,.,



ख़ुद को मैं बाँट ना डालूँ कहीं दामन-दामन
कर दिया तूने अगर मेरे हवाले मुझको,.,

बादाह फिर बादाह है मैं ज़हर भी पी जाऊँ ‘क़तील’
शर्त ये है कोई बाहों में सम्भाले मुझको.,.,.,!!!!




*****************************************************

Apne hathon ki lakeeron me basa le mujhko
Main hun tera naseeb apna bana le mujhko

Mujhse tu poochhne aaya hai wafa ke maane
Ye teri sada-dili maar na dale mujhko

Khud ko main baant lun kahin daaman daaman
Kar diya tune agar mere hawale mujhko

Badah fir badah hai main jahar bhi pee jau 'kateel'
Shart ye hai koi bahon me sambhale mujhko

No comments:

Post a Comment