Like Us on Facebook

Adsense Link

Saturday, 1 December 2012

Mehfil- Ghalib ke sher-o-shayri, 2 Liners in Hindi Font

Mirza Ghaliben.wikipedia.org/wiki/Ghalib

 

उग रहा है दर ओ दीवार से सब्ज़ा ग़ालिब
हम बयाबान में हैं और घर में बाहार आयी है.,.,!!!


Ug raha hai dar o deevar me sabja ghalib
Ham bayaban me hain aur ghar me bahar aayi hai
-----------------------------------------------------------
दिल-ए-नादाँ तुझे हुआ क्या है?
आख़िर इस दर्द की दवा क्या है.,.,?


हम हैं मुश्ताक और वो बेजार
या इलाही यह माजरा क्या है?


हमको उनसे वफ़ा कि है उम्मीद
जो नहीं जानते वफ़ा क्या है.,.,,!!!

Dil-e-nadan tujhe hua kya hai?
Aakhir is dard ki dawa kya hai?

Ham hain mushtak aur wo bejar
Ya ilahi ye majra kya hai?

Hamko unse hai wafa ki ummeed
Jo nahin jante wafa kya hai ?
-----------------------------------------------------------


इश्क़ पर ज़ोर नहीं ,है ये वो आतिश ग़ालिब ,.,
के लगाये न लगे ,बुझाए न बुझे ,.,!!

Ishq par jor nahi , hai ye wo aatish ghalib
Ke lagaye na lage , bujhaye na bujhe




-----------------------------------------------------------

हैं और भी दुनिया में सुख़नवर बहुत अच्छे।
कहते हैं कि ग़ालिब का है अंदाज़े-बयां और.,.,!!!

Hain aur bhi duniya me sukhanvar bahot achhe
Kahte hain ke ghalib ka hai andaz-e-bayan aur

------------------------------------------------

 क़र्ज की पीते थे मैं और समझते थे कि हाँ।
  रंग लायेगी हमारी फ़ाक़ामस्ती एक दिन.,.,!!!

Karz ki peete the mai aur samajhate the ki han
Rang laaye gi hamari fakamasti ek din

--------------------------------------------------

पूछते हैं वो कि ‘ग़ालिब’ कौन है,
      कोई बतलाओ कि हम बतलाएं क्या.,.,!!!

Poochhate hai wo ki Ghalib kain hai
Koi batlao ke ham batlayen kya

----------------------------------------------------

 सनम सुनते हैं तेरी भी कमर है,
        कहां है ? किस तरफ़ है ? औ’ किधर है ?

Sanam sunte hain teri bhi kamar hai
Kahan hai ? kis taraf hai ?au kidhar hai ?

------------------------------------------------------

 सितारे जो समझते हैं ग़लतफ़हमी है ये उनकी।
        फ़लक पर आह पहुंची है मेरी चिनगारियां होकर.,.,!!!

Sitare jo samajhate hai galatfahmi hai ye unaki
Falak par aah pahuchi hai meri chingariyan hokar



----------------------------------------------------

मिर्ज़ा ग़ालिब -
उड़ने दे परिंदों को आज़ाद फ़िज़ा में ग़ालिब ,.,
जो तेरे अपने होंगे वो लौट आएं गे किसी रोज़ ,.,!!!


Mirza Ghalib-
Udne de parindon ko ajad fiza me Ghalib
Jo tere apne honge wo laut aaye ge kisi roj

इक़बाल -
ना रख उम्मीद -ए -वफ़ा किसी परिंदे से 'इक़बाल',.,
जब पर निकल आते हैं ,तो अपने भी आशियाँ भूल जाते हैं ,.,!!


Iqbal-
Na rakh ummeed-e-wafa kisi parinde se Iqbal
Jab par nikal aate hain, to apne bhi aashiyan bhool jate hain

----------------------------------------------------

कमाल हो ग़ालिब ,कुछ भी कहते हो सच लगता है ,.,!!

Kamal ho Ghalib kuchh bhi kahte ho sach lagta hai

----------------------------------------------------

वो आये मेरी कब्र पे अपने रक़ीब के साथ ऐ ग़ालिब ,.,
कौन कहता है के 'मुसलमान जलाये नहीं जाते'.,.,!!!


Wo aaye meri kabra pe apne rakeeb ke saath ae Ghalib
Kaun kahta hain musalman jalaye nahin jaate

-----------------------------------------------------

दुःख देकर सवाल करते हो ,.
तुम भी ग़ालिब ! कमाल करते हो .,
देख कर पूछ लिया हाल मेरा .,
चलो कुछ तो ख्याल करते हो .,.
शहर -ए -दिल में ये उदासियाँ कैसी .,
ये भी मुझसे सवाल करते हो .,.
अब किस किस की मिसाल दूँ तुमको .,
हर सितम बेमिसाल करते हो .,.,!!!
 
 
 


---------------------------------------------------------------

Dukh dekar sawal karte ho
Tum bhi Ghalib kamal karte ho

Dekh kar pooch liya hal mera
Chalo kuchh to khayal karte ho

Shehar-e-dil me udasiyan kaisi
Ye bhi mujhse sawal karte ho

Ab kis kiski misaal dun tumko
Har sitam bemisal karte ho

No comments:

Post a Comment