Like Us on Facebook

Adsense Link

Friday, 7 December 2012

Mehfil-Most popular poetry of Dr. Kumar Vishwas - O Kalpvraksh ki sonjuhi

ओ कल्पवृक्ष की सोनजुही !
ओ अमलतास की अमलकली!
धरती के आतप से जलते..
मन पर छाई निर्मल बदली..!
मैं तुमको मधुसदगन्ध युक्त संसार नहीं दे पाऊँगा |
तुम मुझको करना माफ तुम्हे मैं प्यार नहीं दे पाऊँगा ||
तुम कल्पवृक्ष का फूल और मैं धरती का अदना गायक ,
तुम जीवन के उपभोग योग्य ,मैं नहीं स्वयं अपने लायक ,
तुम नहीं अधूरी गजल शुभे ! तुम साम-गान सी पावन हो ,
हिम शिखरों पर सहसा कौंधी ,बिजुरी सी तुम मनभावन हो,
इसलिये , व्यर्थ शब्दों वाला व्यापार नहीं दे पाऊँगा |
तुम मुझको करना माफ ,तुम्हे मैं प्यार नहीं दे पाऊँगा||



तुम जिस शय्या पर शयन करो ,वह क्षीर सिन्धु सी पावन हो ,
जिस आँगन की हो मौलश्री ,वह आँगन क्या वृन्दावन हो ,
जिन अधरों का चुम्बन पाओ ,वे अधर नहीं गंगातट हों ,
जिसकी छाया बन साथ रहो ,वह व्यक्ति नहीं वंशीवट हो ,
पर मैं वट जैसा सघन छाँह विस्तार नहीं दे पाऊँगा |
तुम मुझको करना माफ तुम्हे मैं प्यार नहीं दे पाऊँगा||




मै तुमको चाँद सितारों का सौंपू उपहार भला कैसे ?
मैं यायावर बंजारा साधूँ सुर संसार भला कैसे ?
मै जीवन के प्रश्नों से नाता तोड तुम्हारे साथ शुभे !
बारूद बिछी धरती पर कर लूँ दो पल प्यार भला कैसे ?
इसलिये , विवश हर आँसू को सत्कार नहीं दे पाऊँगा |
तुम मुझको करना माफ तुम्हे मैं प्यार नहीं दे पाऊँगा ||
ओ कल्पवृक्ष की सोनजुही......!


-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------


O kalpvraksh ki sonjuhi
O amaltash ki amalkali

Dharti ke aatap se jalti
man par chhayi nirmal badli

Main tumko madhusugandh yukt sansar nahi de pau ga
Tum mujhko karna maaf tumhe main pyar nahi de pau ga

Tum kalpvraksh ka fool aur main dharti ka adna gayak
Tum dharti ke upbhog yogya mai swayam nahi apne layak

Tum nahi adhuri ghajal shubhe , tum sham gaan si pavan ho
Him shikahron pe sahsa kaundhim bijuri si manbhavan ho

Isliye vyarth shabdon wala vyapaar nahin de pau ga
Tum mujhko karna maaf tumhe main pyar nahin de pau ga

Tum jis shayya par shayan karo, wah chheer sindhu si pavan ho
Jis aangan ki ho maul shri, wah aangan kya vrindavan ho

Jin adharon ka chumban pao wo adhar nahin ganga tat ho
Jiski chhaya ban saath raho wah vyakti nahi vanshivat ho

Par main vat jaisa saghan chhanh vistar nahin de pau ga
Tum mujhko karna maaf tumhe main pyar nahin de pau ga

Main tumko chand sitaron ka saunpu uphar bhala kaise
Main yayawar banjara sandhu sur sansar bhala kaise

Main jeevan ke prashano se naata tod tumhare saath shubhe
Barood bichhi dharti par kar lun do pal pyar bhala kaise

Isliye vivash har aansoo ko satkar nahin de pau ga
Tum mujhko karna maaf tumhe main pyar nahin de pau ga

No comments:

Post a Comment