Like Us on Facebook

Adsense Link

Thursday, 6 December 2012

Roj taron ki numaish me khalal padta hai - Best Urdu Rahat Indauri




रोज़ तारों की नुमाइश में खलल पड़ता है ;
चाँद पागल है ..अँधेरे में निकल पड़ता है,.,

एक दीवाना मुसाफिर है मेरी आँखों में ;
वक़्त बे -वक़्त .. ठहर जता है ....चल पड़ता है ..

अपनी ताबीर के चक्कर में मेरा जगता ख्वाब ;
रोज़ सूरज की तरह घर से निकल पड़ता है,.,



रोज़ पत्थर की हिमायत में ग़ज़ल लिखते हैं ;
रोज़ शीशों से कोई काम निकल पड़ता है .

उसकी याद आई है ....साँसों ! ज़रा आहिस्ता चलो ;
धडकनों से भी ....इबादत में ..खलल पड़ता है,.,!!!




-----------------------------------------------------------------

Roj taron ki numaish me khalal padta hai
Chand pagal hai, andhere me nikal padta hai

Ek deewana musafir hai meri aankhon me
Waqt be-waqt thahar jata hai , chal padta hai

Apni tabeer ke chakkar me mera jagta khwab
Roj suraj ki tarah ghar se nikal padta hai

Roj patthar ki himayat me ghajal likhte hain
Roj sheeshon se koi kaam nikal padta hai

Uski yaad aayi hai , saanson jara aahista chalo
Dhadkanon se bhi ibadat me khalal padta hai

No comments:

Post a Comment