Like Us on Facebook

Adsense Link

Sunday, 31 March 2013

Mehfil- Rahat Indauri ke Sher (Great Collection)

Rahat Indauri- http://en.wikipedia.org/wiki/Rahat_Indori



सफ़र की हद हो,वहां तक ये निशान रहे .,.,
चले चलो के जहाँ तक ये आसमान रहे .,.
ये क्या के उठाये कदम और आ गयी मंजिल .,.,
मज़ा तो जब है के पैरों में कुछ थकान रहे .,.,!!!

Safar ki had ho , wahan tak ye nishan rahe
Chale chalo ke jahan tak ye aasmaan rahe
Ye kya ke uthaye kadam aur aa gayi manjil
Maja to jab hai ke pairon me kuchh thakan rahe

----------------------------------------------------------

आँख में पानी रखो ,होंठो पे चिंगारी रखो ,.,.
जिंदा रहना है तो तरकीबे बहोत सारी रखो.,.,

ले तो आये शायरी ,बाज़ार में राहत मियाँ ,.,
क्या ज़रूरी है ? लहजे को भी बाजारी रखो .,.,!!!



Aankhon me pani rakho, honthon pe chingari rakho
Jinda rahna hai to tarkeebe bahot sari rakho

Le to aaye shayari , bajar me rahat miyan
Kya jaruri hai ? lahje ko bhi bajari rakho
-----------------------------------------------------------------

रास्ता भूल गया  क्या इधर आने वाला ,.,
अब तो ये सुबह का तारा भी है जाने वाला .,.,

याद के फूल को पलकों पे सजा के रखना ,.,
ये मुसाफिर है बहोत दूर से आने वाला .,.,

आप उस शक्श से वाकिफ तो हैं ,कम वाकिफ हैं ,.,
वो मसीहा है मगर ज़ख्म लगाने वाला .,.

जिस्म में सांस थी जब तक वो मुखालिफ ही रहा ,.,
मेरा दुश्मन था , मगर साथ निभाने वाला .,.,.!!!!!




Rashta bhool gaya kya idhar aane wala
Ab to ye subah ka tara bhi hai jane wala

Yaad ke fool ko palkon pe saja ke rakhna
Ye musafir hai bahot door se aane wala

Aap us shaksh se wakif to hain, kam wakif hain
Wo maseeha hai magar jakhm lagane wala

Jism me saans thi jab tak wo mukhalif hi raha
Mera dhushman tha , magar saath nibhane wala
 ----------------------------------------------------------------

सूरज, सितारे, चाँद मेरे साथ में रहे.,.
जब तक तुम्हारे हाथ मेरे हाथ में रहे.,,
साखों से टूट जाये वो पत्ते नहीं हैं हम.,,
आंधी से कोई कह दे के औकात में रहे.,.,!!!


Sooraj sitare chand mere sath me rahe
Jab tak tumhare hath mere hath me rahe
Saakhon se toot jaye wo patte nahin hai ham
Aandhi se koi kah de ke aukat me rahe
---------------------------------------------------------

इस सादगी पे कौन न मर जाये ए खुदा ,.,
के लड़ते भी हैं और हाथ में तलवार भी नहीं हैं ,.,!!!

Is saadgi pe kaun na mar jaye ae khuda
Ke ladte hain aur haath me talwar bhi nahi hai
-----------------------------------------------------------

मैं वो दरिया हूँ हर बूँद भंवर है जिसकी,.,
तुमने अच्छा ही किया मुझसे किनारा करके ,.,
मुन्तज़िर हूँ की सितारों की ज़रा आँख लगे ,.,
चाँद को छत पे बुला लूंगा इशारा करके ,.,!!!

Main wo dariya hun har boond bhanvar hai jiski
Tumne achha hi kiya mujhse kinara karke
Muntazir hun ke sitaron ki jara aankh lage
Chaand ko chhat pe bula lunga ishara karke

No comments:

Post a Comment