Like Us on Facebook

Adsense Link

Wednesday, 16 April 2014

Mehfil - Kuchh Sher Mere Bhi (Ashish Awasthi)



बैठता हूँ लिखने शिद्दत -ए -दिल से .,.पर
खयाल -ए -मोहब्बत कलम रोक देता है .,.,!!

Baithata hun likhne shiddat-e-dil se.. par
Khayal-e-mohabbat kalam rok deta hai

******************************************

देखना ये है के इन्तेजार कितना है ,.,
पहली तकरार के बाद इकरार कितना है ,.,
पहलू में आ जाएँ गे या मुंह फेर लेंगे ,.,
ये जानने को दिल बेकरार कितना है ,.,!!!

Dekhna ye hai ke intejar kitna hai
Pahli takrar ke bad ikrar kitna hai
Pahlu me aa jayen ge ya muh fer lenge
Ye janane ko dil bekarar kitna hai

*******************************************

होगा वो समंदर दुनिया की खातिर ,.,
मैं जानता हूँ के मेरे पैमाने से निकला ,है,.,,.!!

Hoga wo samandar duniya ki khatir
Main janta hun k mere paimane se nikla hai

*******************************************

तेरी हर बात मानने वाला वो तानाशाह हूँ मैं ,.,
जिसके न कहने पे कई दफा ,मौत भी लौट गयी ,.,!!!

Teri har baat manane wala wo tanashah hun mai
Jiske na kahne pe kai dafa, maut bhi laut gayi

*******************************************

सारा शहर अब जलने लगा है मुझसे ,.,
यकीनन कुछ अच्छा किया होगा  मैंने ,.,!!!

Sara shahar ab jalne laga hai mujhse
Yakeenan kuchh achha kiya hoga maine

*******************************************



पीने दे आज मुझे जी भर के आँखों से ,.,
कभी कभी तो ऐसी शराब का दीदार होता है ,.,!!!

Peene de aaj mujhe jee bhar ke aankhon se
Kabhi kabhi to aisi sharab ka deedar hota hai

*******************************************

जिसकी महफ़िल में कभी खनक कम न होती थी समीर ,.,
आज बस टूटे पैमाने और बर्बाद आशिक़ बचे हैं ,.,!!

Jiski mehfil me kabhi khanak kam na hoti thi 'Sameer'
Aaj bas toote paimane aur barbad aashik bache hain

*******************************************

दुनिया में कोई शायर पैदा नहीं होता ,.,
बर्बादी लिखने वाले को दुनिया शायर कहती है ,.,!!

Duniya me koi shayar paida nahi hota
Barbadi likhne wale ko duniya shayar kahti hai

*******************************************

ये मौसम इतना उदास क्यों है 'समीर',.,
कही फिर कोई मरीज -ए -इश्क़ शहर में तो नहीं ??

Ye mausham itna udaas kyo hai sameer
Kahi fir koi mareej-e-ishq shahar me to nahi

*******************************************

ग़ज़ल कहनी नहीं आती तो क्यों आये हो महफ़िल में ,.,
दर्द कैसा भी हो बयां करने से कम होता है ,.,!!

Ghazal kahni nahi aati to kyo aaye ho mehfil me
Dard kaisa bhi ho bayan karne se kam hota hai

*******************************************

खुश तो मैं हूँ, पर ये हवा क्यों ठंडी है 'समीर' ,.,
तूफान के पहले ऐसा अक्सर देखा हैं ,.,!!!

Khush to mai hu par ye hawa kyo thandi hai sameer
Toofan ke pahle aisa aksar dekha hai

*******************************************

एक वक़्त था जब रईसों में गिनती थी अपनी ,.,
तेरे इश्क़ का कारोबार ,मुझे फ़कीर कर गया ,.,!!!

Ek waqt tha jab raheeson me ginati thi apni
Tere ishq ka karobar mujhe fakeer kar gaya

********************************************

थाम लो हवा -ए -इश्क़ को ,अभी वक़्त है 'समीर',.,
ये तूफ़ान तेरा शहर -ए -दिल उजाड़ देगा ,.,.!!!

Thaam to hawa-e-ishq ko abhiu waqt hai sameer
Ye toofan tera shehar-e-dil ujaad dega

**********************************************

मत कर फ़िक्र दुनिया की हद से ज्यादा 'समीर',.,
ये बेफिक्र हो जाये गी , जब तू तन्हा होगा ,.,!!!

Mat kar fikra duniya ki had se jyada 'sameer'
Ye befikra ho jayegi , jab tu tanha hoga

**********************************************

खयाल ये है के कोई शेर ना कहुँ मैँ ,'समीर',.,
महफ़िल का आगाज़ हो जाये मेरे ज़ज़्बात से,.,!!!

Khayal ye hai ke koi sher na kahu main 'Sameer'
Mehfil ka aaghaz ho jaye mere jazbat se

**********************************************

जो भी सोचा ,पूरी शिद्दत से किया 'समीर ',.,
मैखाने से कभी मैं ,अपने पैरों पे नहीँ लौटा ,.,!! 


Jo bhi socha, puri shiddat se kiya 'sameer;
Maikhane se kabhi main apne pairon pe nahi lauta

**********************************************

मैखाने का ज़िक्र मत कर मुझसे 'समीर ',.,
वहां खुशियां लुटाते है लोग ,एक गम खरीदनें को ,.,!!!

Maikhane ka jikra mat kar mujhse 'sameer'
Waha khushiyan lutate hai log , ek gam khareedne ko

**********************************************

दुश्मनी गर मुझसे है तो बदला भी मुझसे ले 'समीर ' ,.,
बर्बाद कर मुझे ,पर ये शहर आबाद रह्ने दे ,.,!!

Dushmani gar mujhse hai to badla bhi mujhse le sameer
Barbad kar mujhe par ye shehar abad rahne de

************************************************


मुझे शराबी ना कहो ज़माने वालों ,.,
नशा तो इस धीमी बरसात का है ,.,!!!




Mujhe sharabi na kaho jamane walo
Nasha to is dhimi barsaat ka hai

*************************************************

माफी भी दूर से देना इस शहर में सबको ,.,
कई क़त्ल हुए हैं माफ़ करने के बाद ,.,!!

Maafi bhi door se dena is shehar me sabko
Kai katl huye hai maaf karne ke baad

*************************************************

खुद को मात देने के लिए खुद ही अपने खिलाफ खेलता हूँ

Khud ko maat dene ke liye khud hi apne khilaaf khelta hun

*************************************************

आँख बंद करके चलाना खंजर मुझ पे ,.,
कही मैं मुस्कुराया तो तुम पहले मर जाओ गे ,.,!!

Aankh band karke chalana khanjar mujhpe
Kahi mai muskaraya to tum pahle mar jao ge

**************************************************

कुछ इस तरह रही है मेरी प्रेम कहानी
होंठो पे झूठी हंसी और आँखों में नमकीन पानी ,.,!!

Kuchh is tarah rahi hai meri prem kahani
Hontho pe jhuthi hansi aur aankho me namkeen pani

**************************************************

मेरी जान जाती रही इश्क़ की महफ़िल में
तमाशबीन बैठे वाह वाह करते रहे ,.,!!

Meri jaan jaati rahi ishq ki mehfil me
Tamashbeen baithe waah waaah karte rahe

**************************************************

मै सोचूं उसे रात या वो याद करे मुझे
इस कशमकश में सवेरा हो गया ,.,
ग़म था , दर्द था , मौसम भी सर्द था
मै बस सोचता रहा और ये दिसंबर भी गया ,.,
लिखा था मैंने खत जरूर उसके खातिर पर
क़ासिद उसके शहर तो गया मगर घर नहीं गया ,.,!!!

Main sochun use raat ya wo yaad kare mujhe
Is kashamkash me savera ho gaya
Gam tha, dard tha, mausham bhi sard tha
Mai bas sochta raha aur ye December bhi gaya
Likha tha maine khat jaroor uske khatir par
Kashid uske shehar to gaya magar ghar nahi gaya

***************************************************

ऐ दिल क्यों नहीं चलता तू सीधी डगर ,.,
इस इश्क़ ने उजाड़े हैं कई घर ,.,!!

Ae dil kyon nahi chalta tu seedhi dagar
Is ishq ne ujaade hai kai ghar

***************************************************

लोग तलासते है बस कोई फिकरमंद हो ,.,
वरना कौन ठीक होता है हाल पूछने से ,.,!!

Log talasate hai bas koi fikarmand ho
Varna kaun theek hota hai haal poochhne se

***************************************************

दिल की ना सुन ये फ़कीर कर देगा ,.,
वो जो उदास बैठे हैं ,नवाब थे कभी ,.,!!

Dil ki na sun ye fakeer kar dega
Vo jo udas baithe hain, nawab the kabhi

***************************************************

कैसी ये ज़ंग है दिल जीतने की ,.,
दिल हारने वाले ही दिल जीत जाते हैं ,.,!!!

Kaisi ye jang hai dil jeetane ki
Dil harane wale hi dil jeet jate hain

***************************************************

सारे शहर को इश्क़ का फितूर चढ़ा है 'समीर',.,
सुनो ,ग़मों के सौदागरों के दिन फिरने वाले हैँ ,.,!!!

Sare shehar ko ishq ka fitoor chadha hai 'sameer'
Suno, gamon ke saudagaro ke din firne wale hain

***************************************************

फकीरों को आने दे बस्ती मे ये सोच कर 'समीर ',.,
इस महंगाई मे मुफ्त की दुआ ही मिले गीं ,.,!!!

Fakeeron ko aane de basti me ye soch kar 'sameer'
Is menhgaai me muft  ki dua hi mile gi

***************************************************

बर्बाद मत कर बेरहमी से गुलिस्तां मेरा ,.,
इस रिहाइश गह मे तेरे नाम के भीं पत्थर हैँ ,.,!!

Barbaad mat kar berahami se gulistan mera
Is rihaish gah me tere naam ke bhi patthar hain

***************************************************

मत हटाना नक़ाब इन नशीली आँखों से ,.,
मैखाने बंद हो जाएँ गे शहर मे सारे ,.,!!!

Mat hatana nakab in nasheeli aankhon se
Maikhane band ho jayen ge shehar me sare

***************************************************

अपनी हंसी ख़ुशी को जरा आहिस्ता बयां करना ,.,
सौदागर -ए -गम शहर से कुछ ही दूर है ,.,!!

Apni hasi khushi ko jara aahista bayan karna
Saudagar-e-gam shehar se kuchh hi door hai

***************************************************

फिर वही डगर ,,.,
वही सफर ,वही दोपहर ,.,
और वही घर ,.,!!!

Fir wahi dagar
Wahi safar , wahi dophar
Aur wahi ghar

***************************************************

कुछ होते हैं काबिल जो शेर सुना करते हैं ,.,
कुछ होते हैं आशिक़ जो ग़ज़ल कहा करते हैं ,.,!!

Kuchh hote hain kabil jo sher suna karte hain
Kuchh hote hain aashik jo ghazal kaha karte hain

***************************************************

चल आज रात मैं बहाता हूँ लहू ,.,
तुम चख कर बताना जायका कैसा था ??

Chal aaj raat main bahata hun lahoo
Tum chakh kar batana jayka kaisa tha ??

**************************************************

तेरे घर में उजाले आएं बस इस खातिर ,.,
कल रात मैंने अपना घर जला दिया ,.,!!!

Tere ghar me ujaale aanye bas is khatir
Kal raat maine apna ghar jala diya

**************************************************

बहोत तलबगार था जिस तलब का ,.,
वो तलब , बेमतलब निकली ,.,!!

Bahot talabgaar tha jis talab ka
Wo talab , bematlab nikali

**************************************************

अक्सर मेरे साथ ये वाक़या है हो जाता
रात सो जाती है , मैं नहीं सो पाता ,.,!!

Aksar mere saath ye vakya hai ho jata
Raat so jati hai Main nhin so pata

**************************************************

क्या सोचूं ? क्यों सोचूं? क्यों ये ज़हर पिया है ,.,
क्या समझो गे , छोडो , अब तो दर्द ने भी साथ छोड़ दिया है ,.,!!

Kya sochu ? Kyo sochu ? Kyon ye jahar piya hai ?
Kya samajho ge, chhodo, ab dard ne bhi saath chhod diya hai


**************************************************




                                                               Ashish Awasthi

1 comment:

  1. nice shayari....
    we provied Hindi sad shayari, hindi shayari,sad poetry, sad status,sad quotes bewfa shayari, dard shayari in hindi,facebook sad shayari in hindi, sad sms, heat broken shayari, vesy sad shayari for boy's and girl's we provied..
    sad oetry
    sad shayari
    sad quotes

    ReplyDelete