Like Us on Facebook

Adsense Link

Wednesday, 16 April 2014

Mehfil- 2 Liners, Urdu Sher, Shayri, Kavita, Ghazal in Hindi Font Part-3

हमने खुद में पिरोया है तुम्हे एक ताबीज की तरह ,.,
अगर हम टूट गये तो बिखर तुम भी जाओ गे ,.,!!

Hamne khud me piroya hai tumhe ek tabeej ki tarah
Agar ham toot gaye to bikhar tum bhi jao ge

--------------------------------------------------------

सुना है आज बिक रहा है इश्क़ बाज़ार में ,.,
जाओ उस इश्क़ फरामोश से पूछो वफ़ा भी साथ देता है क्या। ,.,??

Suna hai aaj bik raha hai ishq bajar me
Jao us ishq faramosh se poochhi wafa bhi saath deta hai kya?

---------------------------------------------------------

शर्म, अदा, झिझक, परेशानी नाज़ से काम क्यों नहीं लेती ?
"आप, वो, जी, मगर"

ये सब क्या है ?
तुम मेरा नाम क्यों नहीं लेती ?

Sharm, Adaa, Jhijhak , Pareshani naaj se kam kyon nahin leti ?
Aap, wo , jee, magar
Ye sab kya hai ?
Tum mera naam kyon nahi leti ?

-----------------------------------------------------------

छत टपकती है उसके कच्चे घर की ,.,
वो किसान फिर भी बारिश की दुआ करता है ,.,!!!

Chhat tapkati hai uske kachhe ghar ki
Wo kisaan fir bhi barish ki dua karta hai

----------------------------------------------------------

वो मेरी ग़ज़ल पढ़ कर ... पहेलु बदल के बोले
कोई इससे कलम छीने ये किसीकी जान लेलेगा ...!!

Wo meri ghajal padh kar pahlu badal ke bole
Koi isse kalam chheene ye kisi ki jaan le lega




----------------------------------------------------------

इस बार की सर्दियों में ऐसा न होने पाए ...
चढ़ती रहें चादरें मज़ार पर और
बाहर बैठा फ़क़ीर ठंड से मर जाए.,.,!!!

Is bar ki sardiyon me aisa na hone paye
Chadhti rahe chadaren majar par
Bahar baitha fakeer thand se mar jaye



---------------------------------------------------------

चमका ना करो यूँ जुगनू की तरह ,.,!!
किसी दिन हाथों में छुपा कर ले जाऊं गा नहीं तो,.,!!!

Chamka na karo yun jugnu ki tarah
Kisi din hathon me chhupa kar le jau ga nahi to

----------------------------------------------------------

अगर देखनी है क़यामत तो चले आओ हमारी महफ़िल में ,.,.,
सुना है आज महफ़िल में वो बेनक़ाब आ रहे हैं ,.,!!!

Agar dekhani hai qayamat to chale aao hamari mehfil me
Suna hai aaj mehfil me wo benakab aa rahe hain

-----------------------------------------------------------

जब भी टूट कर बिखरता हूँ मैं..
दुगना होकर निखरता हूँ मैं...,.,!!!!

Jab bhi toot kar bikharta hun main
Duguna hokar nikharta hun main

----------------------------------------------------------

हो जो मुमकिन , तो अपना बना लो, तुम...
मेरी तन्हाई गवाह है,,मेरा अपना कोई नहीं.,.,!!!

Ho jo mumkin , to apna bana lo tum
Meri tanhai gawah hai, mera apna koi nahi

----------------------------------------------------------

जिनके आँगन में अमीरी के शज़र (पेड़ ) लगते हैं ,.,
उनके हर ऐब ज़माने को हुनर लगते हैं ,.,!!

Jinke aangan me ameeri ke shajar lagte hain
Unke har aib jamane ko hunar lagte hain

----------------------------------------------------------

मुझे उस जगह से भी मोहब्बत हो जाती है,.,
जहाँ बैठ कर मैं एक बार उसे सोच लेता हूँ..!!

Mujhe us jagah se bhi mohabbat ho jati hai
Jahan baith kar main ek bar use soch leta hu

-------------------------------------------------------------

हम जा रहे हैं वहां जहाँ दिल की क़दर हो .,
बैठे रहो तुम अपनी अदाएं लिए हुए ,.,!!!

Ham ja rahe hain wahan dil ki kadar ho
Baithe raho apni adayen liye huye

-------------------------------------------------------------

कोशिश के बावजूद भी जो पूरी न हो सके ,.,
हाँ ..! तेरा नाम भीं उन्हीं ख्वाइशों में से है ,.,!!

Koshish ke bawjoob bhi jo puri na ho sake
Han..! tera naam bhi unhi khwaishon me se hai

-------------------------------------------------------------

3 comments: