Like Us on Facebook

Adsense Link

Sunday, 7 September 2014

Main kah to dun ye mumkin hai by Ashish Awasthi

मैं कह तो दूँ ये मुमकिन है
फिर जो हो न पाया तो क्या होगा ?

 तू यकीनन सुने गा मेरे अल्फ़ाज़ गौर से
पर बाद इंकार के , एक हादसा तो होगा




 आ जाता हूँ मैं भी इस काफिरों के  शहर  में
फिर जो तूने न पहचाना तो अब क्या होगा ?

 डूबता है सूरज ,चाँद भी है डूबता
जो डूबी आज रात तो ये अच्छा न होगा







 कितने रास्ते चला हूँ इस मंज़िल तक आने को पर
समझा नही क्या इस फासले का सबब होगा

 तू बढ़ा ले सन्नाटा कितना भी इस महफिले में पर
मेरी आहटों ,मेरी दस्तकों का कुछ तो असर होगा

 हमारा क्या हम तो हद में भी बेहद अजीज हैं
जो तूने तोड़ी हैं सरहदे तो अब अंजाम क्या होगा ?

 सब हो जाये गए रुखसत शहर -ए -जिंदगी से एक रोज
तू सोच तेरे बचने का तरीका क्या होगा ,.,.,!!!
                                                       
                                                            - आशीष अवस्थी

************************************************************

Mai kah to du ye mumkin hai
Fir jo na ho paya to kya hoga ?

Tu yakeenan sunega mere alfaj gaur se
Par bad inkar ke ek hadsa to hoga

Aa jata hun mai bhi in kafiron ke shehar me
Fir jo tune na pahchana to ab kya hoga ?

Doobta hai sooraj, chand bhi doobta
Jo doobi aaj rat to ye achha na hoga

Kitne raste chala hu is manjil tak aane ko par
Samjha nahi kya is fasle ka sabab hoga

Tu badha le sannata kitna bhi is mehfil me par
Meri aahaton, meri dastakon ka kuchh to asar hoga

Hamara kya ham to had me bhi behad ajeej hai
Jo tune todi hain sarhaden to ab anjaam kya hoga

Sab ho jaye ge rukhsat shehar-e-jindagi se ek roj
Tu soch tere bachne ka tarika kya hoga ??

No comments:

Post a Comment