Like Us on Facebook

Adsense Link

Monday, 22 September 2014

Mehfil- 2 Liners, Urdu Sher, Shayri, Kavita, Ghazal in Hindi Font Part-10

समझते थे मगर फिर भी न रखी दूरियां हमने
चरागों को जलाने में जला ली उंगलियाँ हमने,..!!

Samajhate the magar fir bhi na rakhi duriyan hamne
Charagon ko jalane me jala li ungliyan hamne

---------------------------------------------------------

मुझ पर सितम ढा गयें मेरी ही गझल के शेर
पढ़ पढ़ के वो खो रहे है किसी और के खयाल में,.,!!!

Mujh par sitam dha gaye meri hi ghajal ke sher
Padh padh ke vo kho rahe hain kisi aur ke khayal me

 ---------------------------------------------------------

फुटपाथ का बिस्तर है तो तकीया है ईट का
यहां कौन युं नींद के मजे लूट रहा है !!!

Footpath ka bistar hai to takiya hai eent ka
Yahan kaun yun neend ke maje loot raha hai

----------------------------------------------------------




नर्म नर्म फूलों का रस निचोड़ लेती हैं ,
पत्थर के दिल होते हैं इन तितलियों के ..!!

Narm narm foolon ka ras nichod leti hai
Patthar ke dil hote hain in titaliyon ke

 ----------------------------------------------------------

ग़लतफ़हमियों के सिलसिले आज इतने दिलचस्प हैं
कि हर ईंट सोचती है दीवार मुझपे टिकी हैं,.,!!

Galatfahmiyon k silsile aaj itne dilchasp hai
Ke has eent sochti hai deewar mujhpe tiki hai

 ---------------------------------------------------------

तुम ने कुछ पढ़ दिया दुआ में क्या??
आज तबियत में कुछ आराम सा है !!

Tumne kuchh padh liya dua me kya?
Aaaj tbiyat me kuchh aaram sa hai

 ---------------------------------------------------------

सदियो का रतजगा मेरी रातों मे आ गया,.
मैं किसी हसिन शख्स की बातों मे आ गया,.,!!

Sadiyo ka ratjaga meri raton me aa gaya
Main kisi haeen shakhs ki bato me aa gaya



 ---------------------------------------------------------

जो समझे नही कभी माँ बाप के प्यार को ,.,
वो कहते है 'हमें बड़ा इश्क़ है किसी से ',.,!!

Jo samajhe nahi kabhi ma baap ke pyar ko
Wo kahte hain ' hamen bada ishq hai kisi se'

 ---------------------------------------------------------

सिगरेट के धुएँ में मरहम ढूँढते-ढूँढते
वो खुदको हजार दफे जलाना याद हैं,.,!!

Ciegarette ke dhuyen me marham dhundte dhundte
Wo khud ko hajar dafe jalana yaad hai

 ---------------------------------------------------------

ऐसे रहबर अब नहीं चाहिए हमें,,,
काफ़िले को छोड़ कर चल दे जो मझधार में..,!!

Aise rahbar ab nahi chahiye hamen
Kaafile ko chhod kar chal de jo majhdhar me

 ---------------------------------------------------------

फिर ना जागा कभी मन में वो बचपन का एहसास,
हमने साईकिल, खिलौने, कंचेे खरीद के देख लिए...!!

Fir na jaga kabhi man me wo bachpan ka ehsas
Hamne cycle , khilaune kanche khareed ke dekh liye

 ---------------------------------------------------------

तेरे ही नाम से ज़ाना जाता हूं मैं,
ना जाने ये " शोहरत" है या "बदनामी",.,!!!

Tere hi haam se jana jata hun mai
Na jane ye shohrat hai ya badnami

 ---------------------------------------------------------

किफायती दरों पर एहसास बिक रहे हैं,,.,
चलो थोड़े तुम खरीद लो थोड़े मैं खरीद लूँ,.,!!!

Kifayati daron pe ehsaas bik rahe hain
Chalo thode tum khareed lo thode mai khreed lun

 ---------------------------------------------------------

जिस नजाकत से ये लहरे मेरे पैरो को छुती है,.,.
यकीन नही होता की ये तमाम कश्तियाँ डूबोकर आ रही है,.,!!

Jis najakat se ye lahre mere pairon ko chhuti hain
Yakeen nahi hota ki ye taman kashityan dubo kr aa rahi hain

 ---------------------------------------------------------

मुझे भंवर में ही छोड़ आते तो, बात तुम पर कभी ना आती ....!!
ये तेरा साहिल पे लाकर डुबोना , कोई सुनेगा तो क्या कहेगा...!!!

Mujhe bhanvar me hi chhod aate to , bat tum par kabhi na aati
Ye tera saahil pe lakar dubona koi sune ga to kya kahe ga

 ---------------------------------------------------------

नब्ज कांटी तो खून लाल ही निकला....!
सोचा था सबकी तरह ये भी बदल गया होगा..!!          

Nabj kati to khoon laal hi nikla
Socha tha sabki tarah ye bhi badal gaya hoga

No comments:

Post a Comment