Like Us on Facebook

Adsense Link

Friday, 28 November 2014

Bahut Pani Barasta hai to mitti baith jati hai- Munnawar Rana Ghazal

बहुत पानी बरसता है तो मिट्टी बैठ जाती है
न रोया कर बहुत रोने से छाती बैठ जाती है,.,.!!!

यही मौसम था जब नंगे बदन छत पर टहलते थे
यही मौसम है अब सीने में सर्दी बैठ जाती है,.,.!!!

चलो माना कि शहनाई मोहब्बत की निशानी है
मगर वो शख़्स जिसकी आ के बेटी बैठ जाती है,.,.!!!




बढ़े बूढ़े कुएँ में नेकियाँ क्यों फेंक आते हैं ?
कुएँ में छुप के क्यों आख़िर ये नेकी बैठ जाती है ?



नक़ाब उलटे हुए गुलशन से वो जब भी गुज़रता है
समझ के फूल उसके लब पे तितली बैठ जाती है,.,.!!!

सियासत नफ़रतों का ज़ख्म भरने ही नहीं देती
जहाँ भरने पे आता है तो मक्खी बैठ जाती है,.,.!!!

वो दुश्मन ही सही आवाज़ दे उसको मोहब्बत से
सलीक़े से बिठा कर देख हड्डी बैठ जाती है,.,.!!!

******************************************************

Bahut paani barsata hai to mitti baith jati hai
Na roya kar , bahut rone se chhati baith jati hai

Yahi mausham tha jab nange badan chhat par tahalate the
Yahi mausham hai ab seene me sardi baith jati hai

Chalo mana ki shehanai mohabbat ki nishani hai
Magar wo shaksh jiski aakar beti baith jati hai

Bade budhe kuyen me nekiyan kyon fenk aate hain ?
Kunye me chhup ke kyon ye aakhir neki baith jati hai

Naqab ulte huye wo gulshan se jab bhi gujarta hai
Samajh ke fool lab pe uske titali baith jati hai

Siyasat nafaraton ka jakhm bharne hi nahi deti
Jahan bharne pe aata hai makhhi baith jati hai

Wo dushman hi awaaj se usko mohabbat se
Saleeke se bitha kar dekh haddi baith jati hai

No comments:

Post a Comment