Like Us on Facebook

Adsense Link

Thursday, 20 November 2014

Best Kavita- Tum Lakh chahe meri aafat me jaan rakhna- Dr. Kumar Vishwas

तुम लाख चाहे मेरी आफ़त में जान रखना
पर अपने वास्ते भी कुछ इम्तहान रखना

वो शख़्स काम का है, दो ऐब भी हैं उसमें
इक सर उठाना दूजा मुँह में ज़बान रखना






बदली सी एक लड़की से कुल शहर ख़फ़ा है
वो चाहती है पलकों पर आसमान रखना



केवल फ़क़ीरों को है ये कामयाबी हासिल
मस्ती में जीना और खुश सारा जहान रखना.


***********************************************



"Tum Laakh Chahe Meri Aafat Mein Jaan Rakhna
Par Apne Waaste Bhi Kuchh Imthaan Rakhna

Wo Shakhs Kaam Ka Hai, Do Aib Bhi Hain Usmein
Ik Sar Uthaana Duja Moonh Mein Zabaan Rakhna

Badli Si Ek Ladki Se Kul Shahar Khafa Hai
Wo Chahati Hai Palkon Par Aasmaan Rakhna

Kewal Faqeeron Ko Hai Ye Kaamyaabi Haasil
Masti Mein Jeena Aur Khush Sara Jahaan Rakhnaa.

No comments:

Post a Comment