Like Us on Facebook

Adsense Link

Tuesday, 25 November 2014

Best Urdu Sher of Munnawar Rana in Hindi Font

हुकूमत मुंह भराई के हुनर से खूब वाक़िफ़ है ,.,
ये हर कुत्ते के आगे शाही टुकड़े दाल देती है ,.,!!

Hukoomat munh bharaai ke hunar se khoob vaakaif hai
ye har kutte ke aage shahi tukada dal deti hai


------------------------------------------------------------------

मियाँ मैं शेर हूँ ,शेरों की गुर्राहट नहीं जाती ,.,
मैं लहजा नर्म भी कर लूँ तो झुंझलाहट नहीं जाती ,.,
मैं एक दिन बेख्याली में कहीं सच बोल बैठा था ,.,
मैं कोशिश कर चुका हूँ ,मुंह की कड़वाहट नहीं जाती ,.,!!!






Miyan main sher hoon sheron ki gurrahat nahin jaati
main lahaja narm bhi kar loon to jhunjhalahat nahin jaati
 main ek din bekhyali men kahin sach bol baitha tha
main koshish kar chuka hoon, munh ki kadavahat nahin jaati


------------------------------------------------------------------

मैंने फल देख के इंसानो को पहचाना है ,.,
जो बहुत मीठे हैं अंदर से सड़े होते हैं ,.,!!!

Mainne fal dekh ke insan ko pahachaana hai
jo bahut meethe hon andar se sade hote hain



------------------------------------------------------------------

लबों पे मुस्कराहट और दिल में बेज़ारी निकलती है ,.,
बड़े लोगों में अक्सर ये बीमारी निकलती है ,.,!!!

Labon par muskurahat dil men bezari nikalti hai
bade logon men hi aksar ye beemari nikalti hai 


------------------------------------------------------------------

2 comments: