Like Us on Facebook

Adsense Link

Sunday, 16 November 2014

Mom ke pas kabhi aag ko lakar dekhu - Rahat Indauri Ghazal

मोम के पास कभी आग को लाकर देखूँ
सोचता हूँ के तुझे हाथ लगा कर देखूँ

कभी चुपके से चला आऊँ तेरी खिलवत में
और तुझे तेरी निगाहों से बचा कर देखूँ

मैने देखा है ज़माने को शराबें पी कर
दम निकल जाये अगर होश में आकर देखूँ






दिल का मंदिर बड़ा वीरान नज़र आता है
सोचता हूँ तेरी तस्वीर लगा कर देखूँ

तेरे बारे में सुना ये है के तू सूरज है
मैं ज़रा देर तेरे साये में आ कर देखूँ

याद आता है के पहले भी कई बार यूं ही
मैने सोचा था के मैं तुझको भुला कर देखूँ,.,!!!

*************************************************

Mom ke paas kabhi aag ko lakar dekhun
Sochta hun ke tujhe haath laga kar dekhu

Kabhi chupke se chala aaun teri khilwat me
Aur tujhe teri nigahon se bacha kar dekhun

Maine dekha hai jamane ko sharaben peekar
Dam nikal jaaye agar hosh me aakar dekhun

Dil ka mandir bada veeran najar aata hai
Sochta hun teri tasveer laga kar dekhun

Tere bare me suna ye hai ke tu sooraj hai
Mai jara der tere saaye me aa kar dekhun

Yaad aata hai ke pahle bhi kai bar yu hi
Maine socha tha ke main tujhko bhula kar dekhun

No comments:

Post a Comment