Like Us on Facebook

Adsense Link

Sunday, 28 December 2014

Andhere Charo taraf saany saany karne lage- Rahat Indauri Best Urdu Ghazal




अँधेरे चारों तरफ़ सायं-सायं करने लगे
चिराग़ हाथ उठाकर दुआएँ करने लगे

तरक़्क़ी कर गए बीमारियों के सौदागर
ये सब मरीज़ हैं जो अब दवाएँ करने लगे



लहूलोहान पड़ा था ज़मीं पे इक सूरज
परिन्दे अपने परों से हवाएँ करने लगे

ज़मीं पे आ गए आँखों से टूट कर आँसू
बुरी ख़बर है फ़रिश्ते ख़ताएँ करने लगे

झुलस रहे हैं यहाँ छाँव बाँटने वाले
वो धूप है कि शजर इलतिजाएँ करने लगे

अजीब रंग था मजलिस का, ख़ूब महफ़िल थी
सफ़ेद पोश उठे काएँ-काएँ करने लगे,.,!!!




------------------------------------------------------------------

Andhere charo taraf saany saany karne lage
Chirag hath utha kar duaayen karne lage

Tarakki kar gaye beemariyon ke saudagar
Ye sab mareej hain jo ab dawayen karne lage

Lahuluhan pada tha jameen pe ek sooraj
Parinde apne paron se hawayen karne lage

Jameen pe aa gaye aankho se toot kar aansoo
Buri khabar hai farishte khatayen karne lage

Jhulas rahe hain hai yaha chhano batne wale
Wo dhoop hai ki iltijayen karne lage

Ajeeb rang tha majlis ka , khoob mehfil thi
safedposh uthe kaanye kaanye karne lage

No comments:

Post a Comment