Like Us on Facebook

Adsense Link

Thursday, 15 January 2015

Dilo pe aag labon pe gulab rakhte hain- Rahat Indauri Ghazal




दिलों में आग लबों पर गुलाब रखते हैं
सब अपने चेहरों पे दोहरी नका़ब रखते हैं

हमें चराग समझ कर बुझा न पाओगे
हम अपने घर में कई आफ़ताब रखते हैं



बहुत से लोग कि जो हर्फ़-आश्ना भी नहीं
इसी में खुश हैं कि तेरी किताब रखते हैं

ये मैकदा है, वो मस्जिद है, वो है बुत-खाना
कहीं भी जाओ फ़रिश्ते हिसाब रखते हैं

हमारे शहर के मंजर न देख पायेंगे
यहाँ के लोग तो आँखों में ख्वाब रखते हैं  ,.,!!!

---------------------------------------------------------------

Dilon pe aag labon par gulaab rakhte hain
Sab apne cheharon pe dohari naqab rakhte hain

Hame charag samajh kar bujha na pao ge
Ham apne ghar me kai aaftab rakhte hain

Bahut se log ki jo harf aashna bhi nahi
Isi me khush hai ke teri kitab rakhte hain

Ye maikada, wo mashjid hai wo hai butkhana
Kahi bhi jao farishte hisaab rakhte hain

Hamare shehar ke manjar na dekh paye ge
Yaha ke log aankhon me khwab rakhte hain

No comments:

Post a Comment