Like Us on Facebook

Adsense Link

Thursday, 12 February 2015

Mehfil- Royal (Nawabi) Urdu Sher, 2 Liners, Shayri, Kavita, Ghazal, Shayri Collection in Hindi Font Part-16

कुछ दिनों की बेकरारी, कुछ ही दिनों का रोना था।
आखिर पत्थर दिल को, पत्थरों के साथ ही होना था।।

---------------------------------------------------------------------

कुछ होते हैं काबिल जो शेर सुना करते हैं ,.,
कुछ होते हैं आशिक़ जो ग़ज़ल कहा करते हैं ,.,!!!

 ---------------------------------------------------------------------


खुले थे दिल के दरवाज़े.. मोहब्बत भी चली गयी !!

 ---------------------------------------------------------------------




तेरी नफरतों ने आज मेरा जीना आसाँ कर दिया
 तेरी मोहब्बत में तो जीना दुश्वार ही था मेरा,.,!!

---------------------------------------------------------------------


सुलझा रहा हूँ एक एक करके सारी उलझनें,
जाने क्या होगा जब इश्क से सामना होगा ..!!!

 ---------------------------------------------------------------------


कभी जो मिले फुरसत तो बताना ज़रूर ऐ जालिम.....
वो कौनसी मुहब्बत थी, जो हम तुम्हे दे
ना सके...!!!

 ---------------------------------------------------------------------


ये किसको फिक्र है क़बीले का क्या होगा ??
सब इसपे लड़ रहे हैं के "सरदार कौन होगा ??

 ---------------------------------------------------------------------


उनकी छत पर गये थे हम कटी हुई पतंग लुटनै
नज़रे मिल गयी उनसै और
वो कहने लगी
'सुनो तुम '
पतंग लुटनै आयै हौ या दिल .....!!!

---------------------------------------------------------------------


ये सारा खेल था जो वक्त के शातिर ने खेला है,
न कुछ उसकी ख़ता है, न कुछ अपनी ख़ता है ..!!!

 ---------------------------------------------------------------------






माँ..
फिर से मुझे मेरा बस्ता दे दे,.,
के दुनिया का दिया सबक बहुत मुश्किल है ....!!

 ---------------------------------------------------------------------


ढूंढी हमने खुशबू बोतलों मे कई बार,.,
शायद आज भी नही मिलती बाजार में महक तेरे बालों की,.,!!!

---------------------------------------------------------------------


मुद्दत से उस की छाँव में बैठा नहीं कोई,.,
वो सायादार पेड़ इसी ग़म में मर गया,.,.!!!

---------------------------------------------------------------------


अपने खेतों से बिछड़ने की सज़ा पाता हूँ,.,
अब मैं राशन की क़तारों में नज़र आता हूँ,.,!!!

---------------------------------------------------------------------


ख्वाइश बस इतनी सी हें की तुम मेरे लफ्ज़ो को समजो
आरज़ू ये नहीं की लोग वाह वाह करे.!!

---------------------------------------------------------------------


क्या उस गली में कभी तेरा जाना हुआ,
जहाँ से जमाने को गुजरा जमाना हुआ.....???

---------------------------------------------------------------------


आज़ाद परिंदा बनने का मज़ा ही कुछ और है,
अपने शर्तो पे ज़िन्दगी जीने का नशा ही कुछ और हैं .!!

---------------------------------------------------------------------


राख पर अब उनकी लहराएँ समंदरभी तो क्या..
सो गए जो उम्र भर हसरत लिए बरसात की,.,!!!

---------------------------------------------------------------------


मुझे ऊंचाइयों पे देख कर हैरान हैं बहुत लोग ,.,
पर किसी ने मेरे पैरों के छाले नहीं देखे ,.,!!!

---------------------------------------------------------------------


किस रावण की काटूं बाहें,
किस लंका को आग लगाऊँ,.,
घर घर रावण पग पग लंका,
इतने राम कहाँ से लाऊँ,.,.!!!

---------------------------------------------------------------------


सहारा लेना पड़ता है दरिया का,
मैं कतरा हूँ, अकेले बह नहीं सकता..!!!

---------------------------------------------------------------------


मोहब्बत और नफरत में कोई अंतर नही
तुझे देखता हूँ तो दोनों एक से लगते है ...!!!

---------------------------------------------------------------------


काफ़िर तेरी निगाह ने वोह काम कर दिया
पीने-- लगा- जो ज़हर- उसे जाम कर दिया,.,!!

---------------------------------------------------------------------


वो जहर देता तो सबकी नज़र में आ जाता,.,
फिर यूँ किया उसने कि वक्त पर दवा न दी,.,!!!

---------------------------------------------------------------------


अब आओ कलेजे से लिपट कर मेरे सो जाओ,.,
बाहर कहाँ जाओगे बड़ी सर्द हवा है ,.,.!!!

---------------------------------------------------------------------


फितरत किसी की यूँ ना आजमाया कर..
हर शख्स अपनी हद में लाजवाब होता है...।।!

---------------------------------------------------------------------


बीच सड़क पर क्यु चलती हैं तु पतली कमर लहरा के ,.,
खुद भी मरेगी मुझे भी मरवायेगी मेरी गाड़ी नीचे आके ,.,!!!

---------------------------------------------------------------------


बदल चुके हैं मौहल्ले के सभी कोने,,
मेरे बचपन का आखरी निशां भी गया !!

---------------------------------------------------------------------


फरेबी भी हूँ,जिद्दी भी हूँ,
और पत्थर दिल भी हूँ,
मासूमियत खो दी है मैंने,
वफा करते करते..!!

---------------------------------------------------------------------


तुम मेरे दर्द को मिटा दोगी एक दिन,,
इसी उम्मीद में जख्म संभाले है अब तक,.,!!!

No comments:

Post a Comment