Like Us on Facebook

Adsense Link

Wednesday, 11 February 2015

Tumhari Chhat pe nigrani Bahot Hai- Best Ghazal by Dr. Kumar Vishwas

तुम्हें जीने में आसानी बहुत है
तुम्हारे ख़ून में पानी बहुत है,.,

ज़हर-सूली ने गाली-गोलियों ने
हमारी जात पहचानी बहुत है,.,.






कबूतर इश्क का उतरे तो कैसे
तुम्हारी छत पे निगरानी बहुत है,.,.



इरादा कर लिया गर ख़ुदकुशी का
तो खुद की आखँ का पानी बहुत है,.,

तुम्हारे दिल की मनमानी मेरी जाँ
हमारे दिल ने भी मानी बहुत है,.,.!!!

**********************************************

Tumhe jeene me asani bahut hai
Tumhare khoon me pani bahut hai

Jahar suli ne gali goliyon ne
Hamari jaat pahchani bahot hai

Kabootar ishq ka chhat pe utre to kaise?
Tumhari chhat pe nigrani bahut hai

Irada kar liya gar khudkushi ka
To Khud ki aankh ka pani bahut hai

Tumhare dil ki manmani meri jan
Hamare dil ne bhi mani bahot hai

3 comments:

  1. बहुत अच्छी ग़जल

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया जनाब

      Delete
  2. आज मैने एक गूस्ताखि की ..अमीर ए सहेर से यारी नही की .

    ReplyDelete