Like Us on Facebook

Adsense Link

Saturday, 27 June 2015

Seene me jalan aankhon me toofan sa kyun hai - Best Urdu Ghazal by Shaharyar in hindi font

सीने में जलन आँखों में तूफ़ान सा क्यूँ है
इस शहर में हर शख़्स परेशान सा क्यूँ है

दिल है तो धड़कने का बहाना कोई ढूँढे
पत्थर की तरह बेहिस-ओ-बेजान सा क्यूँ है

तन्हाई की ये कौन सी मन्ज़िल है रफ़ीक़ो
ता-हद्द-ए-नज़र एक बयाबान सा क्यूँ है



हम ने तो कोई बात निकाली नहीं ग़म की
वो ज़ूद-ए-पशेमान पशेमान सा क्यूँ है

क्या कोई नई बात नज़र आती है हम में
आईना हमें देख के हैरान सा क्यूँ है ,.,!!!






***********************************************

Seene me jalan aankhon me toofan sa kyu hai
Is shahar me har shaksh pareshan sa kyu hai ?

Dil hai to dhadkane ka bahana koi dhunde
Patthar ki tarah behis-o-bejan sa kyu hai ?

Tanhai ki ye kaun si manjil hai rafeeko
Ta-had-e-najar ek bayaban sa kyu hai ?

Hamne koi baat nikali nahi gham ki
Wo jad-e-pashemaan sa kyu hai ?

Kya koi nayi baat najar aati hai ham me
Aaina hame dekh ke hairan sa kyu hai ?

No comments:

Post a Comment