Like Us on Facebook

Adsense Link

Saturday, 4 March 2017

Hindi SMS, Royal (Nawabi) Urdu Sher, 2 Liners, Shayri, Kavita, Ghazal, Shayri Collection in Hindi Font Part-25

कुछ न था मेरे पास खोने को
तुम मिले हो तो डर गया हूँ मैं,.,!!

Kuchh na tha mere pas khone ko
Tum mile ho to dar gaya hu main



तितलियाँ उड गईं लौटा के मुहब्बत मेरी,
मैं ने भी छोड दिया रंगों को सादा कर के !!

Titaliyan ud gayi lauta ke mohabbat meri
Maine bhi chhod diya rango ko sada karke



रफ़्ता रफ़्ता धड़कनों से रूह का नाता छूटा हैं,
इस खामोश मोहब्बत में दिल बड़े शोर से टूटा हैं,.,!!

Rafta rafta dhadkano se rooh ka naata chhoota hai
Is khamosh mohabbat me dil bade shor se toota hai



कोशिश बहुत की के राज़-ए-मोहब्बत बयाँ न हो
पर मुमकिन कहां है के आग लगे और धुआँ न हो,.,!!

Koshish bahot ki ke raj-e-mohabbat bayan na ho
Par kahan mumkin hai ke aag lage aur dhuan na ho



बस एक ही ख्वाब देखा है कई बार मैंने ,.,
तेरी साड़ी में उलझी हैं चाभियां मेरे घर की ,.,!!

Bas ek hi khwaab dekha hai kai baar maine
Teri saadi me ulajhi hain chabhiyan mere ghar ki



इश्क़ उदासी के पैग़ाम तो लाता रहता है दिन रात
लेकिन हम को ख़ुश रहने की आदत बहुत ज़ियादा है,.,!!

Ishq udaasi ke paigaam to lata rahta hai din raat
Lekin hamko khush rahne ki aadat bahot jyada hai



इश्क़ था और अक़ीदत से मिला करते थे
पहले हम लोग मोहब्बत से मिला करते थे,.,!!

Ishq tha aur akeedat se mila karte the
Pahle ham log mohabbat se mila krte the




मेरे दिल की परेशानी भला क्यों कम नहीं होती,
भरा है दिल मेरा गम से,ये आंखे नम नहीं होती...!!!

Mere dil ki pareshani bhala kyo kam nahin hoti
Bhara hai dil mera gam se, ye aankhe nam nahi hoti



क्या ग़लत है जो मैं दीवाना हुआ, सच कहना
मेरे महबूब को तुम ने भी अगर देखा है,.!!

Kya galat hai jo main deewana hua, sach kahna
Mere mehboob ko tumne bhi agar dekha hai



तन्हाई में भी कहते है लोग, जरा महफ़िल में जिया करो
पैमाना लेके बिठा देते है मैखाने में, और कहते है जरा तुम कम पिया करो..!!

Tanhai me bhi kahte hain log, jara mehfil me jiyaa kro
Paimana leke bitha dete hai maikhane me, aur kahte hain jara tum kam piya karo



छटा चांदनी बिखरे थी, निखरा था महताब।
घडी मिलन की बेला पर, आफताब बेताब

Chhata chandini bikhre thi, Nikhra tha mehtaab
Ghadi milan ki bela par aaftaab betaab



उनके नयनों में मेरे ख्वाबों का पलना बाकी है,
मेरे प्रेम का दीपक उनके दिल में जलना बाकी है.,.!!

रुकने दो मुझको थोडा तुम कुछ पल राहे तकने दो,
इन गलियों में अब तक मेरा चाँद निकालना बाकी है,.,!!

Unke nayano me mere khwabon ka palna baaki hai
Mere prem ka deepak unke dil me jalna baaki hai

Rukne do mujhko thoda tum kuchh pal raahe takne do
In galiyon me ab tak mera chand nikalna baaki hai



जख्म गरीब का कभी सूख नहीं पाया,
शहजादी की खरोंच पे तमाम हकीम आ गए,.,!!

Zakhm gareeb ka kabhi dookh nahi paya
Shehzaadi ki kharoch pe tamam hakeem aa gaye



और अब हादसे भी हैरान हैं गुजर कर मुझसे ।
मैं उजड़ने के बाद भी बसा हुआ लगता हूँ ।।

Aur ab hadse bhi hairan hai gujar kar mujhse
Main ujadne ke baad bhi basa hua lagta hun



पूछा हाल शहर का तो,सर झुका के बोले,
लोग तो जिंदा हैं,जमीरों का पता नही,.,!!

Poochha haal shehar ka to sar jhuka ke bole
Log to jinda hain, jameeron ka pata nahi



हम किसी और को दे सकने के काबिल क्या हैं
हाँ, कोई चाहे तो जीने की अदा ले जाए..!!

Ham kisi aur ko de sakne ke kaabil kya hain
Han koi chahe to jeene ki adaa le jaye



बेगुनाह कोई नहीं,
सबके राज़ होते हैं...
किसी के छुप जाते हैं,
किसी के छप जाते हैं...!!

Begunaah Koi nahi
Sabke raaj hote hain
Kisi ke chhup jate hain
Kisi ke chhap jate hain



अज़ीज़ इतना ही रक्खो कि जी सँभल जाए
अब इस क़दर भी न चाहो कि दम निकल जाए,.,!!

Azeez itna hi rakho ke jee sambhal jaye
Ab is kadar bhi na chaho ke dam nikal jaye



वो जो मरने पे तुला है 'अख़्तर'
उस ने जी कर भी तो देखा होगा,.,!!

Wo jo marne pe tula hai akhtar
Usne jee bhar ke bhi to dekha hoga




कैसा लगता है तुमको पनाहों में आकर
नैना कुछ बोल रहे हैं निगाहों में आकर,
क्या रंग डालूँ तुम पर जब तुम
वैसे ही गुलाबी हो गयी बाहों में आकर,.,!!




No comments:

Post a Comment