Log Har Mod Pe- Rahat Indori Ghazal

लोग हर मोड़ पे रुक-रुक के संभलते क्यों हैं
इतना डरते हैं तो फिर घर से निकलते क्यों हैं

मैं न जुगनू हूँ, दिया हूँ न कोई तारा हूँ
रोशनी वाले मेरे नाम से जलते क्यों हैं

नींद से मेरा त'अल्लुक़ ही नहीं बरसों से
ख्वाब आ आ के मेरी छत पे टहलते क्यों हैं

मोड़ होता है जवानी का संभलने के लिए
और सब लोग यहीं आके फिसलते क्यों हैं.,.,!!!



--------------------------------------------------------------
 Log har mod pe ruk ruk ke sambhalte kyo hain?
 Itna darte hain to fir ghar se nikalte kyo hain?

 Mai na jugnu hun, diya hu na taara hu
 Roshani wale mere naam se jalte kyo hai?

 Neend se mera talluk nahi barso se
 Khwab aa aa ke meri chhat pe tahalte kyo hain?

 Mod hota hai jawani ka sambhalne ke liye
Aur sab log yahi aake fisalte kyo hai?

Urdu Sher, Shayri, Ghazal

वक्त-बेवक्त तेरी यादों का सैलाब तौबा,
बहा ले जाता है, सुकूं मेरी तन्हा रातों का ...!!
Waqt be-waqt teri yaadon ka sailab tauba
Baha le jata hai, sukoon meri tanha raaton ka
-----------------------------------------------------------
  हमने देखा था शौक-ऐ-नजर की खातिर
ये न सोचा था के तुम दिल मैं उतर जाओगे.,.,!!!
Hamne dekha tha shauk-e-najar ki khatir
Ye na socha tha ke tum dil me utal jao ge
------------------------------------------------------------
हम न बदलेंगे वक्त की रफ़्तार के साथ,
हम जब भी मिलेंगे अंदाज़ पुराना होगा..,.!!




Ham na badle ge waqt ki raftaar ke saath
Ham jab bhi mile ge andaaj purana hoga
------------------------------------------------------------
"मुझको तो ये गुमान की उसने बचा लिया ,
उसको तो था ये मलाल कि मैं कैसे बच गया...,.,!!!

Mujhko to ye guman ki usne bacha liya
Usko to tha ye malal ki main kaise bach gaya

-------------------------------------------------------------

मोहब्बत है गज़ब उसकी शरारत भी निराली है,
बड़ी शिद्दत से वो सब कुछ निभाती है अकेले में.,.,!!!

Mohabbat hai gajab uski shararat bhi nirali hai
Badi shiddat se wo sab kuchh nibhati hai akele me
 

Udane Bhool aaya hu- Kumar Vishwas ki Kavita

कोई खामोश है इतना बहाने भूल आया हूँ.,.,
किसी की एक तरन्नुम में तराने भूल आया हूँ.,
मेरी अब राह मत ताकना कभी ऐ आसमां वालो.,.,
मै एक चिड़िया की आँखों में उड़ाने भूल आया हूँ.,.!!!



-------------------------------------------------------------------

Koi khamosh hai itna bahane bhool aaya hun
Kisi ki ek tarannum me tarane bhool aaya hun
Meri ab raah mat takna kabhi ae aasmaan walon
Main ek chidiya ki aankhon me udane bhool aaya hun

Mehfil -Kisi ne zahar kakah hai ,kisi ne shehad kaha hai - Rahat Indauri Ghazal



किसी ने जहर कहा है किसी ने शहद कहा
कोई समझ नहीं पाता है जायका मेरा

मैं चाहता था ग़ज़ल आस्मान हो जाये
मगर ज़मीन से चिपका है काफ़िया मेरा

मैं पत्थरों की तरह गूंगे सामईन में था
मुझे सुनाते रहे लोग वाकिया मेरा

बुलंदियों के सफर में ये ध्यान आता है
ज़मीन देख रही होगी रास्ता मेरा .,.,.!!!






-----------------------------------------------------------------

Kisi ne jahar kaha hai , kisi ne shahad kaha
Koi samajh nahi pata hai jayka mera

Mai chahata tha ghazal aasman ho jaye
Magar jameen se chipka hai kafiya mera

Main pattharon ki tarah goonge saamyeen me tha
Mujhe sunate rahe lo waqya mera

Bulandiyon ke safar me dhyan aata hai
Jameen dekh rahi hogi rasta mera

Khak mutthi me uthate hain aur uda dete hain -Rahat Indauri Ghazal




अपने होने का हम इस तरह पता देते थे
खाक मुट्ठी में उठाते थे, उड़ा देते थे

बेसमर जान के हम काट चुके हैं जिनको
याद आते हैं के बेचारे हवा देते थे

उसकी महफ़िल में वही सच था वो जो कुछ भी कहे
हम भी गूंगों की तरह हाथ उठा देते थे

अब मेरे हाल पे शर्मिंदा हुये हैं वो बुजुर्ग
जो मुझे फूलने-फलने की दुआ देते थे

अब से पहले के जो क़ातिल थे बहुत अच्छे थे
कत्ल से पहले वो पानी तो पिला देते थे

वो हमें कोसता रहता था जमाने भर में
और हम अपना कोई शेर सुना देते थे

घर की तामीर में हम बरसों रहे हैं पागल
रोज दीवार उठाते थे, गिरा देते थे

हम भी अब झूठ की पेशानी को बोसा देंगे
तुम भी सच बोलने वालों के सज़ा देते थे,.,!!!



-----------------------------------------------------------------------------


Apne hone ka ham is tarah pata dete the
Khak mutthi me uthate the uda dete the

Besamar jaan ke ham kaat chuke hain jinko
Yaad aate hain bechare ke hawa dete the

Unki mehfil me wahi sach tha wo jo kuchh bhi kahe
Ham bhi goongon ki tarah haath utha dete the

Ab mere haal pe sharminda huye hain wo bujurg
Jo mujhe falne foolne ki dua dete the

Ab se pahle ke kaatil bahut achhe the
Katl se pahle wo pani to pila dete the

Wo hame kosta rhata tha jamane bhar me
Aur ham apna koi sher suna dete the

Ghar ki tameer me ham barso rahe pagal
Roj deewar uthate the , gira dete the

Ham bhi ab jhuth ki peshaani ko bosa denge
Tum bhi sach bolne walon ko saja dete the

Mehfil Mehfil Muskana to padta hai - Best Kavita (Ghazal) of Kumar Vishwas




महफ़िल महफ़िल मुस्काना तो पड़ता है.,.,
दिल ही दिल में खुद को, समझाना तो पड़ता है.,.,!!

उनकी आँखों से होकर दिल तक जाना.,.,
रस्ते में ये मैखाना तो पड़ता है.,.,!!!!!

तुमको पाने की चाहत में ख़तम हुए,.,
इश्क में इतना जुरमाना तो पड़ता हैं,.,!!!



------------------------------------------------------------------------------

Mehfil Mehfil muskana to padta hai
Dil hi dil me khod ko, Samjhana to padta hai

Unki aankhon se hokar dil tak jaana
Raste me ye maikhana to padta hai

Tumko paane ki chahat me khatam huye
Ishq ke itna jurmana to padta hai

Hamara dil sabere ka sunahra jaam ho jaaye -Best Urdu Ghazal by Baseer Badra

हमारा दिल सबेरे का सुनहरा जाम हो जाए
चिरागों की तरह आँखें जले जब शाम हो जाए

मैं खुद भी एतिहातन उस गली से कम गुज़रता हूँ
कोई मासूम क्यों मेरे लिए बदनाम हो जाए





अजब हालत थे यूँ दिल का सौदा हो गया आखिर
मोहब्बत की हवेली जिस तरह नीलाम हो जाए

समुन्दर के सफ़र में इस तरह आवाज़ दो हमको
हवायें तेज़ हों और कश्तियों में शाम हो जाए

मुझे मालूम है फिर उसका ठिकाना कहाँ होगा
परिंदा आसमान छूने में जब नाकाम हो जाए

उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो
न जाने किस गली में ज़िन्दगी की शाम हो जाए,.,!!!




-----------------------------------------------------------------------------------

Hamara dil sabere ka sunahra jaam ho jaye
Chiragon ki tarah aankhe jale jab sham ho jaye

Main khud bhi ehtiyatan us gali se kam gujarta hun
Koi masoom kyon mere liye badnam ho jaye

Ajab haalaat the yun dil ka sauda ho gaya aakhir
Mohabbat ki haweli jis tarah neelam ho jaye

Samandar ke safar me is tarah awaz do hamko
Hawayen tej ho aur kashtiyon me sham ho jaye

Mujhe malum hai fir uska thikana kahan hoga
Parinda aasman chhoone me jab nakam ho jaye

Ujaale apni yaadon ke hamare saath rahne do
Na jaane kis gali me jindagi ki sham ho jaye

Ghalib ke mashhoor Sher , Best sher of Mirza Ghalib in Hindi font (2 Liners)

हैं और भी दुनिया में सुख़नवर बहुत अच्छे।
कहते हैं कि ग़ालिब का है अंदाज़े-बयां और.,.,!!!

Hain aur bhi duniya me sukhanwar bahot achhe
Kahte hain ki Ghalib ka hai andaz-e-bayan aur

------------------------------------------------

 क़र्ज की पीते थे मैं और समझते थे कि हाँ।
  रंग लायेगी हमारी फ़ाक़ामस्ती एक दिन.,.,!!!

Karz ki peete the ham aur samjhate the ki han
Rang laaye gu hamari fakamasti ek din




--------------------------------------------------

पूछते हैं वो कि ‘ग़ालिब’ कौन है,
      कोई बतलाओ कि हम बतलाएं क्या.,.,!!!

Poochhate hain wo ki 'Ghalib' kaun hai
Koi batlao ki ham batlayen kya

----------------------------------------------------

 सनम सुनते हैं तेरी भी कमर है,
        कहां है ? किस तरफ़ है ? औ’ किधर है ?



Sanam sunte hain teri bhi kamar hai
Kahan hai ? kis taraf hai ? aur kidhar hai ?

------------------------------------------------------

 सितारे जो समझते हैं ग़लतफ़हमी है ये उनकी।
        फ़लक पर आह पहुंची है मेरी चिनगारियां होकर.,.,!!!

Sitare jo samjhate hai galafahmi hai ye unki
Falak par aah pahuchi hai meri chingariyan hokar

Angoor ki Beti se mohabbat kar le - Best Urdu Ghazal

आज अंगूर की बेटी से मोहब्बत कर ले
शेख साहब की नसीहत से बगावत कर ले


इसकी बेटी ने उठा रखी है सर पर दुनिया
ये तो अच्छा हुआ अंगूर को बेटा न हुआ


कम से कम सूरत ए शाकी का नज़ारा कर ले
आके मैखाने में जीने का सहारा कर ले











आँख मिलते ही जवानी का मज़ा आएगा
तुझको अंगूर के पानी का मज़ा आएगा


हर नज़र अपनी बकद शौक गुलाबी कर दे
इतनी पी ले की ज़माने को शराबी कर दे


जाम जब सामने आये तो मुकरना कैसा
बात जब पीने की आ जाए तो डरना कैसा


धूम मची है मैखाने तू भी मचा ले धूम धूम धूम
झूम बराबर झूम शराबी.,.,!!!



*******************************************************************



Aaj angoor ki beti se mohabbat kar le
Shekh sahab ki naseehat se bagavat kar le

Iski beti ne utha rakhi hai sar par duniya
Ye to achha hua angoor ko beta na hua

Kam se kam soorat-e-saaki ka najara kar le
Aake maikhane me jeene ka sahara kar le

Aankh milte hi jawani ka maja aaye ga
Tujhko angoor ke paani ka maja aaye ga

Har najar apni bakad shauk gulabi kar de
Itna pee le ki jamane ko sharabi kar de

Jaam jab samne aaye to mukarna kaisa 
Baat jab peene ki aa jaye to darna kaisa

Dhoom machi hai maikhane me, tu bhi macha le dhoom dhoom dhoom
Jhoom barabar jhoom sharabi

Sponsored Link/ Advertisement below this

Mai Shunya hu - Kavita by Ashish Awasthi

ना खोया है कुछ, न कुछ पाया है ,.,
एक शुन्य हूँ मै .,.,
जिसका कोई अस्तित्व ही नही है अकेले में.,
पर मुझे इस पर गम नही ,
क्यों ?
कि दुनिया का आधार हूँ .,.,
मै शुन्य हूँ .,. 




                                       -आशीष अवस्थी

Kavita kya hai ? Rachna kya hai ? - Ashish Awasthi

रचना में क्या होता है,
             शब्दों का मेल.,
कविता क्या है,
           भावनाओ की मौज.,.
तुकबंदी से गीत बनते है जो ,
          शायद वही गाते है लोग.,.,
पर यहाँ तो अतुकांत कविता है,
        बिलकुल ज़िन्दगी की तरह.,.,
जिसका कोई न ओर है न छोर ,
यही राज़ है ख़ुशी का की हर चीज हो जाये 'अतुकांत '.,.,  




                                                                                    - आशीष अवस्थी

---------------------------------------------------------------------------------------

Rachna me kya hota hai ?
Shabdon ka mel

Kavita kya hai ?
Bhavanaon ki mauj

Tukbandi se geet bante hain jo
Sayad wahi gaate hain log

Par yahan to atukant kavita hai
Bilkul jindagi ki tarah

Jiska koi na or hai na chhor
Yahi raaj hai khushi ka ki har cheej ho jaye Atukant