Mehfil-Most popular poetry of Dr. Kumar Vishwas - O Kalpvraksh ki sonjuhi

ओ कल्पवृक्ष की सोनजुही !
ओ अमलतास की अमलकली!
धरती के आतप से जलते..
मन पर छाई निर्मल बदली..!
मैं तुमको मधुसदगन्ध युक्त संसार नहीं दे पाऊँगा |
तुम मुझको करना माफ तुम्हे मैं प्यार नहीं दे पाऊँगा ||
तुम कल्पवृक्ष का फूल और मैं धरती का अदना गायक ,
तुम जीवन के उपभोग योग्य ,मैं नहीं स्वयं अपने लायक ,
तुम नहीं अधूरी गजल शुभे ! तुम साम-गान सी पावन हो ,
हिम शिखरों पर सहसा कौंधी ,बिजुरी सी तुम मनभावन हो,
इसलिये , व्यर्थ शब्दों वाला व्यापार नहीं दे पाऊँगा |
तुम मुझको करना माफ ,तुम्हे मैं प्यार नहीं दे पाऊँगा||



तुम जिस शय्या पर शयन करो ,वह क्षीर सिन्धु सी पावन हो ,
जिस आँगन की हो मौलश्री ,वह आँगन क्या वृन्दावन हो ,
जिन अधरों का चुम्बन पाओ ,वे अधर नहीं गंगातट हों ,
जिसकी छाया बन साथ रहो ,वह व्यक्ति नहीं वंशीवट हो ,
पर मैं वट जैसा सघन छाँह विस्तार नहीं दे पाऊँगा |
तुम मुझको करना माफ तुम्हे मैं प्यार नहीं दे पाऊँगा||




मै तुमको चाँद सितारों का सौंपू उपहार भला कैसे ?
मैं यायावर बंजारा साधूँ सुर संसार भला कैसे ?
मै जीवन के प्रश्नों से नाता तोड तुम्हारे साथ शुभे !
बारूद बिछी धरती पर कर लूँ दो पल प्यार भला कैसे ?
इसलिये , विवश हर आँसू को सत्कार नहीं दे पाऊँगा |
तुम मुझको करना माफ तुम्हे मैं प्यार नहीं दे पाऊँगा ||
ओ कल्पवृक्ष की सोनजुही......!


-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------


O kalpvraksh ki sonjuhi
O amaltash ki amalkali

Dharti ke aatap se jalti
man par chhayi nirmal badli

Main tumko madhusugandh yukt sansar nahi de pau ga
Tum mujhko karna maaf tumhe main pyar nahi de pau ga

Tum kalpvraksh ka fool aur main dharti ka adna gayak
Tum dharti ke upbhog yogya mai swayam nahi apne layak

Tum nahi adhuri ghajal shubhe , tum sham gaan si pavan ho
Him shikahron pe sahsa kaundhim bijuri si manbhavan ho

Isliye vyarth shabdon wala vyapaar nahin de pau ga
Tum mujhko karna maaf tumhe main pyar nahin de pau ga

Tum jis shayya par shayan karo, wah chheer sindhu si pavan ho
Jis aangan ki ho maul shri, wah aangan kya vrindavan ho

Jin adharon ka chumban pao wo adhar nahin ganga tat ho
Jiski chhaya ban saath raho wah vyakti nahi vanshivat ho

Par main vat jaisa saghan chhanh vistar nahin de pau ga
Tum mujhko karna maaf tumhe main pyar nahin de pau ga

Main tumko chand sitaron ka saunpu uphar bhala kaise
Main yayawar banjara sandhu sur sansar bhala kaise

Main jeevan ke prashano se naata tod tumhare saath shubhe
Barood bichhi dharti par kar lun do pal pyar bhala kaise

Isliye vivash har aansoo ko satkar nahin de pau ga
Tum mujhko karna maaf tumhe main pyar nahin de pau ga

Roj taron ki numaish me khalal padta hai - Best Urdu Rahat Indauri




रोज़ तारों की नुमाइश में खलल पड़ता है ;
चाँद पागल है ..अँधेरे में निकल पड़ता है,.,

एक दीवाना मुसाफिर है मेरी आँखों में ;
वक़्त बे -वक़्त .. ठहर जता है ....चल पड़ता है ..

अपनी ताबीर के चक्कर में मेरा जगता ख्वाब ;
रोज़ सूरज की तरह घर से निकल पड़ता है,.,



रोज़ पत्थर की हिमायत में ग़ज़ल लिखते हैं ;
रोज़ शीशों से कोई काम निकल पड़ता है .

उसकी याद आई है ....साँसों ! ज़रा आहिस्ता चलो ;
धडकनों से भी ....इबादत में ..खलल पड़ता है,.,!!!




-----------------------------------------------------------------

Roj taron ki numaish me khalal padta hai
Chand pagal hai, andhere me nikal padta hai

Ek deewana musafir hai meri aankhon me
Waqt be-waqt thahar jata hai , chal padta hai

Apni tabeer ke chakkar me mera jagta khwab
Roj suraj ki tarah ghar se nikal padta hai

Roj patthar ki himayat me ghajal likhte hain
Roj sheeshon se koi kaam nikal padta hai

Uski yaad aayi hai , saanson jara aahista chalo
Dhadkanon se bhi ibadat me khalal padta hai

Kumar Vishwas Winter Special- Yaad tak jam ke baith jati hai

Enjoy Winter.....!
"धूंप भी खुल के कुछ नहीं कहती ,
रात ढलती नहीं थम जाती है ,
सर्द मौसम की एक दिक्कत है ,
याद तक जम के बैठ जाती है....,.!!!!




----------------------------------------------------





Dhoop bhi khul ke kuchh nahin kahti
Raat dhalti nahin tham jaati hai
Sard mausham ki ek dikkat hai
Yaad tak jam ke baith jati hai

Apne hatho ki lakiron me basa le mujhko- Urdu Ghazal by Kateel

अपने हाथों की लकीरों में बसा ले मुझको
मैं हूँ तेरा तो नसीब अपना बना ले मुझको,.,

मुझसे तू पूछने आया है वफ़ा के माने
ये तेरी सादा-दिली मार ना डाले मुझको,.,



ख़ुद को मैं बाँट ना डालूँ कहीं दामन-दामन
कर दिया तूने अगर मेरे हवाले मुझको,.,

बादाह फिर बादाह है मैं ज़हर भी पी जाऊँ ‘क़तील’
शर्त ये है कोई बाहों में सम्भाले मुझको.,.,.,!!!!




*****************************************************

Apne hathon ki lakeeron me basa le mujhko
Main hun tera naseeb apna bana le mujhko

Mujhse tu poochhne aaya hai wafa ke maane
Ye teri sada-dili maar na dale mujhko

Khud ko main baant lun kahin daaman daaman
Kar diya tune agar mere hawale mujhko

Badah fir badah hai main jahar bhi pee jau 'kateel'
Shart ye hai koi bahon me sambhale mujhko

Mehfil- Ghalib ke sher-o-shayri, 2 Liners in Hindi Font

Mirza Ghaliben.wikipedia.org/wiki/Ghalib

 

उग रहा है दर ओ दीवार से सब्ज़ा ग़ालिब
हम बयाबान में हैं और घर में बाहार आयी है.,.,!!!


Ug raha hai dar o deevar me sabja ghalib
Ham bayaban me hain aur ghar me bahar aayi hai
-----------------------------------------------------------
दिल-ए-नादाँ तुझे हुआ क्या है?
आख़िर इस दर्द की दवा क्या है.,.,?


हम हैं मुश्ताक और वो बेजार
या इलाही यह माजरा क्या है?


हमको उनसे वफ़ा कि है उम्मीद
जो नहीं जानते वफ़ा क्या है.,.,,!!!

Dil-e-nadan tujhe hua kya hai?
Aakhir is dard ki dawa kya hai?

Ham hain mushtak aur wo bejar
Ya ilahi ye majra kya hai?

Hamko unse hai wafa ki ummeed
Jo nahin jante wafa kya hai ?
-----------------------------------------------------------


इश्क़ पर ज़ोर नहीं ,है ये वो आतिश ग़ालिब ,.,
के लगाये न लगे ,बुझाए न बुझे ,.,!!

Ishq par jor nahi , hai ye wo aatish ghalib
Ke lagaye na lage , bujhaye na bujhe




-----------------------------------------------------------

हैं और भी दुनिया में सुख़नवर बहुत अच्छे।
कहते हैं कि ग़ालिब का है अंदाज़े-बयां और.,.,!!!

Hain aur bhi duniya me sukhanvar bahot achhe
Kahte hain ke ghalib ka hai andaz-e-bayan aur

------------------------------------------------

 क़र्ज की पीते थे मैं और समझते थे कि हाँ।
  रंग लायेगी हमारी फ़ाक़ामस्ती एक दिन.,.,!!!

Karz ki peete the mai aur samajhate the ki han
Rang laaye gi hamari fakamasti ek din

--------------------------------------------------

पूछते हैं वो कि ‘ग़ालिब’ कौन है,
      कोई बतलाओ कि हम बतलाएं क्या.,.,!!!

Poochhate hai wo ki Ghalib kain hai
Koi batlao ke ham batlayen kya

----------------------------------------------------

 सनम सुनते हैं तेरी भी कमर है,
        कहां है ? किस तरफ़ है ? औ’ किधर है ?

Sanam sunte hain teri bhi kamar hai
Kahan hai ? kis taraf hai ?au kidhar hai ?

------------------------------------------------------

 सितारे जो समझते हैं ग़लतफ़हमी है ये उनकी।
        फ़लक पर आह पहुंची है मेरी चिनगारियां होकर.,.,!!!

Sitare jo samajhate hai galatfahmi hai ye unaki
Falak par aah pahuchi hai meri chingariyan hokar



----------------------------------------------------

मिर्ज़ा ग़ालिब -
उड़ने दे परिंदों को आज़ाद फ़िज़ा में ग़ालिब ,.,
जो तेरे अपने होंगे वो लौट आएं गे किसी रोज़ ,.,!!!


Mirza Ghalib-
Udne de parindon ko ajad fiza me Ghalib
Jo tere apne honge wo laut aaye ge kisi roj

इक़बाल -
ना रख उम्मीद -ए -वफ़ा किसी परिंदे से 'इक़बाल',.,
जब पर निकल आते हैं ,तो अपने भी आशियाँ भूल जाते हैं ,.,!!


Iqbal-
Na rakh ummeed-e-wafa kisi parinde se Iqbal
Jab par nikal aate hain, to apne bhi aashiyan bhool jate hain

----------------------------------------------------

कमाल हो ग़ालिब ,कुछ भी कहते हो सच लगता है ,.,!!

Kamal ho Ghalib kuchh bhi kahte ho sach lagta hai

----------------------------------------------------

वो आये मेरी कब्र पे अपने रक़ीब के साथ ऐ ग़ालिब ,.,
कौन कहता है के 'मुसलमान जलाये नहीं जाते'.,.,!!!


Wo aaye meri kabra pe apne rakeeb ke saath ae Ghalib
Kaun kahta hain musalman jalaye nahin jaate

-----------------------------------------------------

दुःख देकर सवाल करते हो ,.
तुम भी ग़ालिब ! कमाल करते हो .,
देख कर पूछ लिया हाल मेरा .,
चलो कुछ तो ख्याल करते हो .,.
शहर -ए -दिल में ये उदासियाँ कैसी .,
ये भी मुझसे सवाल करते हो .,.
अब किस किस की मिसाल दूँ तुमको .,
हर सितम बेमिसाल करते हो .,.,!!!
 
 
 


---------------------------------------------------------------

Dukh dekar sawal karte ho
Tum bhi Ghalib kamal karte ho

Dekh kar pooch liya hal mera
Chalo kuchh to khayal karte ho

Shehar-e-dil me udasiyan kaisi
Ye bhi mujhse sawal karte ho

Ab kis kiski misaal dun tumko
Har sitam bemisal karte ho