Urdu sher-best indian poets, shayar in Hindi Font

पहली मुलाकात थी और हम दोनों ही थे बस .,.,
वो जुल्फें न संभाल पाए , और हम खुद को .,.,!!!

Pahli mulakat thi aur ham dono hi the bas
Wo julfen na sambhal paaye aur ham khud ko

-----------------------------------------------------------

वो जिसका तीर चुपके से जिगर के पार होता है,
वो कोई गैर नहीं अपना ही रिश्तेदार होता है,
किसी से अपने दिल की बात कहना न कभी भूले से,
यहाँ ख़त भी जरा सी देर में अख़बार होता है.,.,!!!

Wo jiska teer chupke se jigar ke par hota hai
Wo koi gaur nahin apna hi rishtedar hota hai
Kisi se apne dil ki bat kahna na bhoole se
Yahan khat bhi jara si der me akhbar hota hai

----------------------------------------------------------

वो कहते हैं ,हम सूरते ए मुल्क बदलेंगे,
बरसो से जिन्होंने अपनी करवट नहीं बदली.,.,!!!

Wo kahte hain, ham soorat-e-mulk badle ge
Barson se jinhone ne apni karvat nahi badli

-------------------------------------------------------

उसने कहा था.....
"सुनो कि तबियत ठीक नहीं है ,
सुनो कि पूछो कैसी हूँ मैं ,
सुनो कि गुस्सा झूंट-मूट है ,
सुनो कि पहले जैसी हूँ मैं ..,..,!!!

Usne kaha tha
Suno ki tabiyat theek nahin hai
Suno ki poochho kaisi hu mai
Suno ki gussa jhunth mooth hai
Suno ki pahle jaisi hu main

------------------------------------------------------

नादानी की हद है ,ज़रा देखो तो उन्हें .,.,
मुझे छोड़ कर वो ,मेरे जैसा ढूँढ रहे हैं .,.,!!!

Naadani ki had hai, jara dekho to unhe
Mujhe chhod kar wo mere jaisa dhund rahe hain




----------------------------------------------------

हादसों की ज़द पे हैं तो मुस्कराना छोड़ दें .,.
ज़लज़लों के खौफ से क्या घर बनाना छोड़ दें .,.
तुमने मेरे घर न आने की कसम खायी तो है .,.,
अब आंसुओं से कह दो , आँखों में आना छोड़ दें .,.,!!!

Hadson ki jad pe hain to muskurana chhod de
Jaljalon ke khauf se kya ghar banana chhod de
Tumne mere ghar na aane ki kasam khayi to hai
Ab aansuon se kah do aankhon me aana chhod de

-------------------------------------------------------  


दिल की ज़िद हो तुम ,
वरना ,
इन आँखों ने हसीन बहोत देखे हैं .,.,!!!

Dil ki jid ho tum varna in aankhon ne haseen bahot dekhe hain

-----------------------------------------------------

ये इलाज़ बताया है .,., हकीम ने उसे भुलाने का .,.,
के रफ्ता रफ़्ता तुम अपनी याद -दाश्त खो बैठो .,.,!!!


Ye ilaaj bataya hai haqeem ne use bhulane ka
Ke rafta rafta tum apni yaad-dasht kho baitho
--------------------------------------------------------

हमें आता है सुकून इसीलिए तेरे पास चले आते हैं साकी .,,.,
वरना कहने को तो और भी हैं ,मैखाने में तेरी आँखों के सिवा .,.,.!!!


Hame aata hai sukkon isiliye tere paas chale aate hain saaki
Varna kahne ko to aur bhi hai maikhane me teri aankhon ki siwa

------------------------------------------------------

तेरे इश्क ने सरकारी दफ्तर बना दिया दिल को.,.,
ना कोई काम करता है,ना कोई बात सुनता है.,.,!!!


Tere ishq ne sarkari daftar bana diya dil ko
Na koi kaam karta hai, na koi baat sunta hai

------------------------------------------------------------

हर बात पे रंजिश हर बात पे 'हिसाब'
लगता है हमने 'इश्क' नहीं
'नौकरी' करली हो जैसे.,.,!!!


Har baat pe ranjish har baat pe hisaab
Lagta hai hamne ishq nahi
Naukari kar li ho jaise

--------------------------------------------------------

ये शरारत भरा लहजा तो मेरी आदत है,
तु हर एक बात पे,यों नम ना किया कर आँखें..,.!!!


Ye shararat bhara lahja to meri aadat hai
Tu har ek baat pe , yun nam na kiya kar aankhe

-------------------------------------------------------

अगर दिल ही मुअज्ज़न हो,सदायें काम आती हैं,
समंदर में सभी माफिक हवायें काम आती हैं ,
उसे आराम है, ये दोस्तों की मेहरबानी है ,
दुआएँ साथ हों तो सब दवायें काम आती हैं..,.,!!


Agar dil muajjan ho, sadayen kaam aati hain
Samandar me sabhi maafik hawayen kaam aati hain
Use aaram hai ye doston ki meharbani hai
Duaayen saath ho to sab dawaye kaam aati hai

--------------------------------------------------------

वो अपने साथ मुझे क़ैद कर के ले जाये
खुदा करे कोई ऐसा कसूर हो मुझसे .,.,.!!!


Wo apne saath mujhe kaid kar ke le jaaye
Khuda kare koi aisa kasoor ho mujhse

--------------------------------------------------------

ढूंढते हो क्या आँखों में कहानी मेरी ,.,
खुद में गुम रहना तो आदत है पुरानी मेरी .,.,!!!


Dhoondte ho kya aankhon me kahani meri
Khud me gum rahna to aadat hai purani meri

-------------------------------------------------------

वो आईने को भी हैरत में डाल देता है ,.,
किसी किसी को खुदा ये कमाल देता है ..,.!!!        


Wo aaine ko bhi hairat me dal deta hai
Kisi kisi ko khuda ye khayal deta hai

---------------------------------------------------------

तोहमतें तो लगती रहीं रोज़ नई नई.....हम पर....
मगर जो सब से हसीन इलज़ाम था वो .......तेरा नाम था....


Tohmaten to lagti rahi roj nayi nayi ham par
Magar jo sabse haseen iljaam tha wo tera naam tha

--------------------------------------------------------

हद -ए -बेबसी तो देखो ,.,
न तुम मेरी अपनी ,और ना मै अपना .,.,!!!


Had-e-bebasi to dekho
Na tum meri apni aur na main apna

------------------------------------------------------------------------------------

अजीब सी आदत ,.,और गज़ब की फितरत है अपनी .,.
मोहब्बत हो या नफरत , बहोत शिद्दत से करते हैं .,.!!!


Ajeeb si aadat aur gajab ki fitrat hai apni
Mohabbat ho ya nafrat, bahot shiddat se karte hain

--------------------------------------------------------------------------------------

खामोश बैठें तो लोग कहते हैं उदासी अच्छी नहीं ..
ज़रा सा हँस लें तो मुस्कुराने की वजह पूछ लेते हैं...,.,!!!


Khamosh baithe to log kahte hain udasi achhi nahin
Jara sa hans le to muskurane ki vajah poochh lete hain

---------------------------------------------------------------------------------------

ऐ काश ,वो एक नया ढंग मेरे कत्ल का ईजाद करे .,.
मर जाऊ मैं हिचकियों से , वो इतना मुझे याद करे .,.,!!!


Ae kash wo ek naya dhang mere katl ka ijaad kare
Mar jau main hichkiyon se, wo itna mujhe yaad kare

--------------------------------------------------------------------------------------

Urdu Sher-O-Shayri Collection

बड़ी मुश्किल से होता है,यह तेरी यादों का कारोबार,
मुनाफा कम तो है,लेकिन गुज़रा हो ही जाता है.,.,!!!


Badi mushkil se hota hai, yah teri yadon ka karobar
Munafa kam to hai, lekin gujara ho hi jata hai

----------------------------------------------------------------------

वो मेरी ग़ज़ल पढ़ कर ... पहेलु बदल के बोले
कोई इससे कलम छीने ये किसीकी जान लेलेगा ...!!!


Wo meri ghajal padh kar, pahlu badal ke bole
Koi isse kalam chheene ye kisi ki jaan le lega

--------------------------------------------------------------------

राज किसी का भी हो, किसी से कुछ नहीं कहते,
ये एहतियात सिर्फ, अंधेरों में पायी जाती है...,.,!!!


Raj kisi ka bhi ho, kisi se kuchh nahi kahte
Ye ehtiyaat sirf andheron me paayi jati hai



-----------------------------------------------------------------------

मैं जिन को दे कर निवाला गया हूँ ,उनके दर से उछाला गया हूँ ,
जो घर मैंने बना कर दिया था ,मैं उस घर से निकाला गया हूँ...!!





Mai jinko dekar nivala gaya hun unke dar se uchhala gaya hu
Jo ghar maine bana kar diya tha main us dar se nikala gaya hu

----------------------------------------------------------------------------

मज़ा आ जाए गर हो जाए इतना अबकी बारिश में ,
हमारी आखँ के आँसू , तुम्हारी छत पे जा बरसें...,.,!!!
 
 
 


Maja aa jaye gar ho jaye itna abki barish me
Hamari aankh ke aansoo , tumhari chhat pe ja barse

Mehfil- Rahat Indauri ke Sher (Great Collection)

Rahat Indauri- http://en.wikipedia.org/wiki/Rahat_Indori



सफ़र की हद हो,वहां तक ये निशान रहे .,.,
चले चलो के जहाँ तक ये आसमान रहे .,.
ये क्या के उठाये कदम और आ गयी मंजिल .,.,
मज़ा तो जब है के पैरों में कुछ थकान रहे .,.,!!!

Safar ki had ho , wahan tak ye nishan rahe
Chale chalo ke jahan tak ye aasmaan rahe
Ye kya ke uthaye kadam aur aa gayi manjil
Maja to jab hai ke pairon me kuchh thakan rahe

----------------------------------------------------------

आँख में पानी रखो ,होंठो पे चिंगारी रखो ,.,.
जिंदा रहना है तो तरकीबे बहोत सारी रखो.,.,

ले तो आये शायरी ,बाज़ार में राहत मियाँ ,.,
क्या ज़रूरी है ? लहजे को भी बाजारी रखो .,.,!!!



Aankhon me pani rakho, honthon pe chingari rakho
Jinda rahna hai to tarkeebe bahot sari rakho

Le to aaye shayari , bajar me rahat miyan
Kya jaruri hai ? lahje ko bhi bajari rakho
-----------------------------------------------------------------

रास्ता भूल गया  क्या इधर आने वाला ,.,
अब तो ये सुबह का तारा भी है जाने वाला .,.,

याद के फूल को पलकों पे सजा के रखना ,.,
ये मुसाफिर है बहोत दूर से आने वाला .,.,

आप उस शक्श से वाकिफ तो हैं ,कम वाकिफ हैं ,.,
वो मसीहा है मगर ज़ख्म लगाने वाला .,.

जिस्म में सांस थी जब तक वो मुखालिफ ही रहा ,.,
मेरा दुश्मन था , मगर साथ निभाने वाला .,.,.!!!!!




Rashta bhool gaya kya idhar aane wala
Ab to ye subah ka tara bhi hai jane wala

Yaad ke fool ko palkon pe saja ke rakhna
Ye musafir hai bahot door se aane wala

Aap us shaksh se wakif to hain, kam wakif hain
Wo maseeha hai magar jakhm lagane wala

Jism me saans thi jab tak wo mukhalif hi raha
Mera dhushman tha , magar saath nibhane wala
 ----------------------------------------------------------------

सूरज, सितारे, चाँद मेरे साथ में रहे.,.
जब तक तुम्हारे हाथ मेरे हाथ में रहे.,,
साखों से टूट जाये वो पत्ते नहीं हैं हम.,,
आंधी से कोई कह दे के औकात में रहे.,.,!!!


Sooraj sitare chand mere sath me rahe
Jab tak tumhare hath mere hath me rahe
Saakhon se toot jaye wo patte nahin hai ham
Aandhi se koi kah de ke aukat me rahe
---------------------------------------------------------

इस सादगी पे कौन न मर जाये ए खुदा ,.,
के लड़ते भी हैं और हाथ में तलवार भी नहीं हैं ,.,!!!

Is saadgi pe kaun na mar jaye ae khuda
Ke ladte hain aur haath me talwar bhi nahi hai
-----------------------------------------------------------

मैं वो दरिया हूँ हर बूँद भंवर है जिसकी,.,
तुमने अच्छा ही किया मुझसे किनारा करके ,.,
मुन्तज़िर हूँ की सितारों की ज़रा आँख लगे ,.,
चाँद को छत पे बुला लूंगा इशारा करके ,.,!!!

Main wo dariya hun har boond bhanvar hai jiski
Tumne achha hi kiya mujhse kinara karke
Muntazir hun ke sitaron ki jara aankh lage
Chaand ko chhat pe bula lunga ishara karke

Best 2 Liner Urdu Sher in Hindi Font

मैं जानता हूँ मेरी खुद्दारियां तुझे खो देंगी लेकिन ,.,
मैं क्या करूँ ,मुझ को मांगने से नफ़रत है .,.,!!!!!


Main Janta hun meri khuddariyan tujhe kho dengi lekin
Main kya karu mujhko mangne se nafrat hai
-----------------------------------------------------------------
पूछा किसी ने हाल बड़ी मुदत्तों के बाद ,.,
आया मेरा ख्याल बड़ी मुदत्तों के बाद .,.,

करता है वो याद मुझे चाहत से मगर .,.,
होता है ये कमाल बड़ी मुदत्तों के बाद .,.!!!


Poochha kisi ne hal badi muddaton ke bad
Aaaya mera khayal badi muddaton ke bad

Karta hai wo yaad mujhe chahat se magar
Hota hai ye kamal badi muddaton ke bad

-----------------------------------------------------------------
समझ जाता हूँ लेकिन देर से , मैं दाँव -पेंच उसके ,.,.
वो बाज़ी जीत जाता है ,मेरे चालाक होने तक .,.,!!






Samajh jata hun lekin der se , main daanv pench uske
Wo baji jeet jata hai, Mere chalak hone tak
---------------------------------------------------------------
किस्सा -ए-ग़म , दिल-ए-काफ़िर का सुनाते किसको .,.,
अजनबी शहर का हर शक्श मुसलमान निकला .,.,!!!


Kissa-e-gam, dil-e-kafir ka sunate kisko
Ajnabee shehar ka har shaksh musalman nikla
----------------------------------------------------------------
बहोत थे मेरे भी इस दुनिया में अपने .,.,
फ़िर इश्क़ हुआ और हम लावारिस हो गए .,.,!!!


Bahot the mere bhi is duniya me apne
Fir ishq hua aur ham lawaris ho gaye




----------------------------------------------------------------

इश्क़ मैंने किया पाकीज़ा इबादत की तरह,
और दुनिया ने मुझे समझा तिज़ारत की तरह ,
मेरे अन्दर हूँ मैं दुनिया से यूँ महफूज़ मगर ,
शोहरतें राह में लटकीं इबारत की तरह..,.,.!!!


Ishq maine kiya pakeeja ibadat ki tarah
Aur duniya ne samjha mujhe tijarat ki tarah
Mere andar hun main duniya se yun mahfooj magar
Shohraten raah me latki ibarat ki tarah
----------------------------------------------------------------
यूँ जलाते हो जैसे सवाब मिलता हो .,.,
दिल है मेरा ,चिराग-ए-मस्जिद तो नहीं ,.,.!!!


Yun jalate ho jaise sabab milta ho
Dil hai mera chirag-e-masjid to nahin
---------------------------------------------------------------
मैं ख़्वाब हूँ तो ख़्वाब से चौंकाईये मुझे
मैं नीद हूँ तो नींद उड़ा देनी चाहिए.,.,.
बीमार को मर्ज़ की दवा देनी चाहिए
वो पीना चाहता है पिला देनी चाहिए.,.,!!


Main khwab hun to khwab se chaunkaiye mujhe
Main neend hun to neend uda deni chahiye
Beemar ko marj ki dawa deni chahiye
Wo peena chahta hai to pila deni chahiye
---------------------------------------------------------------
लगा के आग दिल में चले हो तुम, कहाँ हमदम ,
अभी तो राख उड़ने पर तमाशा और भी होगा .,.,!!!
 
 
 
 
 
 
 


Laga ke aag dil me chale ho tum , kahan hamdam
Abhi to rakh udne par tamasha aur bhi hoga